प्रदेश के गौ-भैंस वंशीय पशुओं का टीकाकरण आज से

पशुपालन मंत्री श्री प्रेम सिंह पटेल ने बताया कि एक अगस्त से पूरे प्रदेश में गौ-भैंस वंशीय पशुओं का टीकाकरण किया जायेगा। एनएडीसीपी योजना में प्रदेश के 290 लाख गौ-भैस वंशीय पशुओं को टैग लगाये जाने हैं। भारत सरकार को 200 लाख टैग के लिये मांग पत्र भेजे गये थे। इसके प्रत्‍युत्तर मे प्रदेश को 200 लाख टैग उपलब्ध करा दिये गये हैं। साथ ही इन पशुओं के लिए 262 लाख एमएफडी टीका द्रव्य भी प्राप्त हो गया है।

मंत्री श्री पटेल ने बताया कि टीकाकरण के प्रथम चरण के लिये केन्द्र शासन द्वारा 48 करोड़ 82 लाख रुपये की राशि प्राप्त हो गई है। इसमें से 12 करोड़ 62 लाख 83 हजार शीत श्रंखला व्यवस्था, 11 करोड 12 लाख 39 हजार टीकाकरण सामग्री और 25 करोड 7 लाख 59 हजार गौ सेवक, मैत्री कार्यकर्ता आदि के मानदेय, ईयर टैग और स्वास्थ्य प्रमाण-पत्र भुगतान पर व्यय किये जायेगे।

पशुपालन मंत्री ने बताया कि केन्द्र शासन द्वारा गौ, भैंस, बकरी, भेंड़, सूकर के टीकाकरण के लिये नेशनल एनीमल डिजीज कंट्रोल प्रोग्राम (NADCP) प्रारंभ किया गया है। प्रथम चरण में मात्र गौ-भैंस वंश का टीकाकरण किया जायेगा। टैगिंग पशुओं की जानकारी आईएनएपीएच सॉफ्टवेयर में दर्ज की जायेगी। कार्यक्रम 6 माह के अंतराल में वर्ष में दो बार संचालित होगा।

उल्लेखनीय है कि भारत सरकार की पशु संजीवनी योजना में प्रदेश को पूर्व में 90 लाख टैग प्राप्त हुए थे जो मात्र 30 प्रतिशत प्रजनन योग्य पशुओं के लिये पर्याप्त थे। इनमें से 70 लाख 49 हजार टैग लगाये जा चुके हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *