प्रदेश तेज आर्थिक विकास की राह पर

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि मध्यप्रदेश तेज आर्थिक विकास की राह पर है। यहाँ उद्योग और व्यवसाय में निवेश का अनुकूल वातावरण है। अन्तर्राष्ट्रीय संस्थाओं के अनुमानों का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि भारत

की आर्थिक विकास दर शीघ्र ही चीन से अधिक हो जायेगी। इस प्रक्रिया में मध्यप्रदेश महत्वपूर्ण भूमिका अदा करेगा।

श्री चौहान कल रात न्यूयार्क में फ्रेण्ड्स ऑफ एम पी कानक्लेव को संबोधित कर रहे थे। न्यूयार्क के लिंकन सेन्टर के सबसे भव्य एवरी फिशर हाल में हुए इस कानक्लेव में मुख्यमंत्री ने friendsofmp.com का लोकार्पण भी किया। इस अवसर पर उद्योग मंत्री श्रीमती यशोधरा राजे सिंधिया और 3000 से अधिक प्रवासी भारतीय तथा अन्य विशिष्ट लोग उपस्थित थे। कानक्लेव का आयोजन प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा राज्यों को अपने ग्लोबल टेलेन्ट पूल बनाने के सुझाव के अनुसरण के लिए किया गया। ऐसी पहल करने वाला मध्यप्रदेश देश का पहला राज्य है। हिन्दी में दिये गये अपने आधा घंटे के उद्बोधन के दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि मध्यप्रदेश की विकास दर 11.08 प्रतिशत है। कई वर्ष से प्रदेश की कृषि विकास दर 20 प्रतिशत और इससे अधिक रही है। श्री चौहान ने कहा कि मई 2014 में श्री नरेन्द्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद भारत और भारत से बाहर रहने वाले भारतीयों का आत्म-विश्वास बहुत बढ़ा है। पिछली सरकार की पहचान बन चुकी पॉलिसी पेरेलिसिस की स्थिति से देश बाहर आ गया है। श्री मोदी सिर्फ भारत के नहीं बल्कि विश्व नेता के रूप में उभर रहे हैं। उनके सुझाव को मानते हुए संयुक्त राष्ट्र संघ ने 21 जून को अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस घोषित किया है।

श्री चौहान ने बताया कि केन्द्र सरकार द्वारा की गई नीतिगत पहलों का लाभ उठाने में मध्यप्रदेश सबसे आगे है। इसके लिए राज्य सरकार द्वारा अनेक नई नीतियाँ बनाई गई हैं, अनेक प्रचलित नीतियों में बदलाव किये गये हैं और ईज ऑफ डूइंग बिजनेस में सुधार लाया गया है। प्रदेश की विशेषताओं का उल्लेख करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि मध्यप्रदेश में अच्छी कानून व्यवस्था, साम्प्रदायिक सद्भाव और औद्योगिक शांति के साथ-साथ निवेश के अनुकूल नीतियाँ है। प्रदेश में उद्योगों की स्थापना के लिए 26 हजार हेक्टेयर का लेण्ड बेंक बनाया गया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि उद्यमियों और निवेशकों की सुविधा के लिए उन्होंने सिंगल विण्डो की जगह सिंगल डोर सिस्टम लागू किया है।