प्रदेश में यूरिया की कमी नहीं आयेगी

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने निर्देश दिये हैं कि जिलों में उर्वरकों का वितरण पारदर्शिता के साथ निर्धारित मूल्य पर सुनिश्चित किया जाय। कलेक्टर वितरण व्यवस्था की स्वयं मानीटरिंग करें। किसानों को समय पर उर्वरक उपलब्ध हो।

मुख्यमंत्री श्री चौहान आज यहाँ वीडियो कान्फ्रेंसिंग से कलेक्टरों और कमिश्नरों से बात कर रहे थे। इस दौरान मुख्य सचिव श्री अंटोनी डि सा भी उपस्थित थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश को केन्द्र से पर्याप्त मात्रा में यूरिया के रेक मिल रहे हैं। केन्द्रीय उर्वरक एवं रसायन मंत्री से उनकी दिल्ली में बैठक के बाद हर रोज 6-7 रेक प्रदेश को प्राप्त हो रही हैं। प्रदेश में उर्वरक की कमी नहीं है, यह जानकारी किसानों को भी दी जाये। किसान जब जरूरत हो और जितनी जरूरत हो उतनी ही यूरिया खरीदें। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिये कि उर्वरक के सुचारू वितरण की जिम्मेदारी कलेक्टरों की है। वितरण में गड़बड़ी नहीं हो, यह सुनिश्चित करें। उर्वरक की रेक अनिवार्य रूप से न्यूनतम समय-सीमा में खाली करवायें। उर्वरक वितरण में सहकारी बेंकों की लगातार मानीटरिंग करें। जहाँ पहले बोवनी हुई है वहाँ पर पहले उर्वरक उपलब्ध करवायें। मण्डियों में किसानों को अपनी उपज का वाजिब दा‍म मिले और उनका शोषण नहीं हो, यह भी देखें। पिछले वर्ष ओले-पाले से जिन किसानों की 50 प्रतिशत से ज्यादा फसल का नुकसान हुआ है उनका ब्याज राज्य सरकार भरेगी, यह सुनिश्चित करें। निमाड़ क्षेत्र में मिर्ची की फसल के नुकसान का आंकलन करें। जहाँ नयी मण्डियाँ बन रही हैं, वहाँ मण्डी स्थानांतरित करवायें। कलेक्टर बिजली बिलों की बकाया वसूली में सहयोग करें। किसानों को जागरूक करें कि यूरिया के साथ एन.पी.के. का उपयोग भी करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *