प्रधानमंत्री ने मध्यप्रदेश के वित्तीय समावेशन मॉडल की सराहना की

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने मध्यप्रदेश में अधिकतम लोगों को बेंकिंग सहायता उपलब्ध करवाने के लिए वित्तीय समावेशन के ‘समृद्धि’ मॉडल को सफलता से लागू किए जाने की तारीफ की। उन्होंने इसे अन्य राज्यों के लिए अनुकरणीय बताया। श्री मोदी ने मध्यप्रदेश

में प्रधानमंत्री जन-धन योजना का लक्ष्य प्राप्त करने के लिए मध्यप्रदेश को बधाई भी दी। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज नई दिल्ली में योजना आयोग के नये स्वरूप पर प्रधानमंत्री श्री मोदी द्वारा बुलाई गई मुख्यमंत्रियों की बैठक में मध्यप्रदेश के वित्तीय समावेशन मॉडल ‘समृद्धि’ पर प्रस्तुतीकरण दिया।

मुख्यमंत्री ने प्रस्तुतीकरण में बताया कि मध्यप्रदेश में वर्ष 2011-12 में जब ‘समृद्धि’ मॉडल लागू किया गया। उस वक्त 14 हजार 767 गाँव ऐसे थे जिनकी परिधि के पाँच किलोमीटर तक किसी व्यावसायिक या सहकारी बेंक की शाखा नहीं थी। साथ ही कोई डाकघर भी नहीं था। राज्य सरकार ने इन क्षेत्रों की शेडो एरिया के रूप में पहचान की। वहाँ वित्तीय समावेशन का काम शुरू कर इसे ‘समृद्धि’ मॉडल नाम दिया गया। इस मॉडल में राज्य सरकार ने अल्ट्रा स्माल बेंक/ग्राहक सेवा केन्द्र स्थापित करने के लिए पंचायत भवनों में 100 वर्ग फीट तक का स्थान उपलब्ध करवाया। यह मॉडल डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर के क्रियान्वयन के लिए अपेक्षित सभी प्रमुख बिन्दुओं पर केन्द्रित है।