बारिश-बाढ़: केदारनाथ यात्रा रुकी, 15000 फंसे, 14 हेलिकॉप्टर से निकाल रही NDRF

केदारनाथ/श्रीनगर/नई दिल्ली. दो दिनों से जारी भारी बारिश से उत्तराखंड के केदारनाथ में 15000 लोगों के फंसने की खबर है। बताया जा रहा है कि ये सभी केदारनाथ की यात्रा पर गए हैं। बारिश के कारण बाढ़ में फंसे 9000 से ज्यादा लोगों को सुरक्षित स्थानों पर भेजा गया है। 900 श्रद्धालुओं को शुक्रवार को एनडीआरएफ की टीम ने 14 हेलिकॉप्टर से बाहर निकाला। बचे श्रद्धालुओं को निकालने के लिए केंद्र सरकार ने मदद का भरोसा दिया है। केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने उत्तराखंड के मुख्यमंत्री से बात की। शनिवार को केंद्र एनडीआरएफ (नेशनल डिजास्टर रिस्पॉन्स फोर्स) की और टीमें भेज रहा है। राज्य सरकार ने केदारनाथ यात्रा दो दिन के लिए रोक दी है।
सीएम ने कहा- श्रद्धालु डरें नहीं, करेंगे हर संभव मदद
उत्तराखंड के मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कहा, ”श्रद्धालु आपदा के डर से यात्रा बीच में न छोड़ें। प्रशासन सुरक्षित यात्रा के लिए हर संभव मदद करेगा।” वहीं, मानसरोवर यात्रियों के चौथे जत्थे को धारचूला बेस कैंप पर रोक दिया गया है। बारिश के कारण हेमकुंड साहिब और बद्रीनाथ इलाके में 12 से ज्यादा सड़कें और पुल क्षतिग्रस्त हो गए हैं।
उत्तराखंड की सभी नदियां उफान पर
उत्तराखंड की सभी नदियों में बारिश के कारण जलस्तर बढ़ गया है। प्रदेश में दो दिन से लगातार बारिश के चलते गढ़वाल और कुमाऊं की सभी नदियां उफान पर हैं। गढ़वाल में अलकनंदा, मंदाकिनी और भागीरथी का जलस्तर बढ़ गया है। ऋषिकेश व हरिद्वार में गंगा खतरे के निशान के करीब बह रही है। प्रशासन ने तटवर्ती क्षेत्रों में रहने वालों के लिए अलर्ट जारी कर दिया है। कुमाऊं में शारदा, सरयू, गोमती और काली नदी रौद्र रूप धारण कर चुकी हैं। पिथौरागढ़ जिले में काली नदी के कटाव से सुरक्षा दीवार बहने के कारण एक गांव के 40 परिवारों ने घर छोड़कर सुरक्षित स्थान पर शरण ली है।
मौसम खुलने का इंतजार
उत्तराखंड के एडिशनल चीफ सेक्रेटरी आरके शर्मा ने कहा, ”मौसम खुलने के बाद फिर से यात्रा शुरू होगी। कई इलाकों में अभी भी लगातार बारिश जारी है। इसके चलते चमोली में चारधाम यात्रा बुरी तरह से प्रभावित हो गई है। फंसे श्रद्धालुओं को गोविंद घाट और अन्य इलाकों से सुरक्षित स्थानों पर भेजा गया है। पिथौरागढ़ कलेक्टर सुशील कुमार ने बताया कि 57 यात्रियों का दल मानसरोवर यात्रा के लिए रवाना किया गया था, जिसे धारचूला के पास रोक दिया गया है। हालांकि, यात्रा को स्थगित नहीं हुई है।
केरल में बारिश से तीन की मौत
केरल में दक्षिण-पश्चिम मानसून के चलते भारी बारिश से तीन लोगों की मौत हो गई। इनमें दो बच्चे भी शामिल हैं, जबकि 11 लोग घायल हो गए। राज्य के अनेक इलाकों में भारी बारिश की चेतावनी दी गई है। राज्य में सामान्य बारिश 491.8 मिमी के मुकाबले 346.9 मिमी बारिश हुई है। यह 26 प्रतिशत कम है।
पूरे देश में मानसून सक्रिय
मौसम विभाग के मुताबिक, पूरे देश में 26 जून तक मानसून सक्रिय हो गया है। स्कायमेट के मुताबिक, दक्षिण-पश्चिम मानसून पश्चिमी राजस्थान में भी पहुंच गया है। देश में मानसून देरी से आया था, लेकिन वह 21 दिन में पूरे देश में तेजी से सक्रिय हुआ है। पिछले 24 घंटे में नॉर्थ-वेस्ट इंडिया में 469 प्रतिशत ज्यादा बारिश हो चुकी है। जबकि जम्मू-कश्मीर में 1,324 प्रतिशत ज्यादा बारिश हो चुकी है। इसी तरह से राजस्थान में 846 प्रतिशत और गुजरात में 635 प्रतिशत ज्यादा बारिश हो चुकी है।
उत्तराखंड में 2 साल पहले आई बाढ़ से हुई थीं तीन हजार मौतें
उत्तराखंड में जून 2013 में आई बाढ़ में तीन हजार से ज्यादा लोग मारे गए थे और कई लापता हो गए थे। 17 जून को एक ही दिन में 340 मिलीमीटर बारिश हो गई थी। उत्तरकाशी में बादल फटने के बाद असिगंगा और भागीरथी में जल स्तर बढ़ गया। बाढ़ से केदारनाथ मंदिर को भी नुकसान पहुंचा था। सिर्फ एक चट्टान की वजह से पानी का बहाव मुड़ गया और मंदिर का मुख्य हिस्सा बच गया था।
कहां है केदारनाथ मंदिर?
यह मंदिर उत्तराखंड के रूद्र हिमालय रेंज में आता है। समुद्र तल से 3581 मीटर की ऊंचाई पर स्थित इस मंदिर तक पहुंचने का रास्ता कठिन है। सोनप्रयाग से केदारनाथ की दूरी 21 किलोमीटर की है। पहाड़ी पर छह महीने बर्फ जमीने रहने के कारण मंदिर अप्रैल से नवंबर के बीच ही श्रद्धालुओं के लिए खोला जाता है। यहां मंदाकिनी नदी बहती है। यहीं 2 साल पहले आई बाढ़ के कारण काफी नुकसान पहुंचा था औ रास्ता बंद हो गया था। बाढ़ के दौरान लापता कई लोगों का तो आज तक पता नहीं चल पाया है।
जून में मानसून की बारिश सामान्य से 27% से ज्यादा
भारतीय मौसम विज्ञान विभाग के शनिवार के आंकड़ों के मुताबिक जून में मानसून की बारिश सामान्य से 27% ज्यादा हो गई है। दो दिन पहले यह आंकड़ा 24% और चार दिन पहले 21% पर था।
भारत में हर साल कितनी होती है बारिश?
पिछले 50 साल में मानसून के दौरान देशभर में औसतन 89 सेमी बारिश दर्ज की गई। 2013 में देशभर में औसतन 106 सेमी बारिश हुई। उसे अच्छा मानसून माना गया। लेकिन पिछले साल 88 सेमी बारिश हुई। जो सामान्य से 12% कम थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *