बीजेपी-RSS की मानसिकता है कि केवल पुरुष देश चलाएं: राहुल गांधी

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने मंगलवार को कहा कि केंद्र में कांग्रेस की सरकार बनते ही वे संसद में महिला आरक्षण बिल लाएंगे. उन्होंने अगर मौजूदा सरकार महिला आरक्षण बिल लाती है तो कांग्रेस उसका समर्थन करेगी. राहुल गांधी ने कहा कि समाज की महिलाओं को पुरुषों के बराबर लाने के लिए कांग्रेस पार्टी हरसंभव कोशिश करेगी. कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि बीजेपी और आरएसएस की विचारधारा यह है कि केवल पुरुष ही इस देश को चलाएंगे. केंद्र की मौजूदा सरकार को महिलाओं की कद्र नहीं है. पीएम मोदी रेप की घटनाओं पर कुछ नहीं बोलते हैं. पिछले चार साल में महिलाओं पर जितने अत्याचार हुए हैं, उतने पिछले 70 साल में नहीं हुए.

राहुल गांधी दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में महिला अधिकार सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे. उन्होंने कहा कि आज देश में आलम यह है कि लोग बीजेपी के विधायकों से अपनी बेटियों की सुरक्षा करने को मजबूर हैं. उन्होंने कहा कि सरकार बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ की बात करती है, लेकिन मौजूदा हालात देखकर समझ नहीं आ रहा है कि बेटियों को कैसे बचाया जा रहा है. देश भर में बेटियों के बीच असुरक्षा का भाव पैदा हो गया है.

हमारी विचारधारा BJP-RSS विचारधारा में महिलाओं को लेकर बड़ा फर्क है. RSS महिलाओं की एंट्री बैन है. मैं पूछना चाहता हूं कि आखिरकार RSS में महिलाओं को जगह क्यों नहीं दी जाती, उनको पद क्यों नहीं मिलता है. महिला RSS की स्वयं सेवक नहीं हो सकती. देश में मोदी ने बीजेपी ने और उनकी विचारधारा ने आग लगा दी है, चाहे वह नोटबंदी हो चाहे वह जीएसटी हो, चाहे वह किसानों की हालत हो मनरेगा हो, या जहां भी आप देखेंगे वहां पर गरीबों पर आक्रमण बार-बार हो रहा है.

उत्तर प्रदेश में महिलाओं का रेप होता है प्रधानमंत्री के मुंह से एक शब्द नहीं निकलता है. झारखंड में महिलाओं का रेप होता है, अलग-अलग प्रदेशों में होता है, एक शब्द नहीं बोलते हैं. वह सभी विषयों पर बोलते हैं बिहार में छोटे बच्चों का रेप होता है, लेकिन प्रधानमंत्री एक शब्द नहीं बोलते. उत्तर प्रदेश में बीजेपी का MLA रेप करता है और बीजेपी के अध्यक्ष या प्रधानमंत्री एक शब्द भी नहीं बोलते हैं. आज पूरी दुनिया में यह कहा जा रहा है कि हिंदुस्तान महिलाओं के लिए सुरक्षित नहीं है, लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के एक शब्द वह बाहर जाते हैं तो दूसरे देश के लोगों से गले मिलते हैं, लेकिन यह नहीं समझा पाते कि भारत में महिलाएं सुरक्षित क्यों नहीं है.

महिलाओं के खिलाफ जो नरेंद्र मोदी की सरकार ने 4 साल में किया वह 70 साल क्या 3000 साल में नहीं हुआ. महिला आरक्षण बिल संसद में पड़ा हुआ है, मैंने कह दिया है कि जिस दिन आप पर करना चाहो हमारी पूरी पार्टी पास कराने में आपकी मदद करेगी. उन्होंने बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का प्रोग्राम किया था, हमें यह नहीं समझ में आया कि बेटी किससे बचानी थी बीजेपी के MLA  से। नरेंद्र मोदी सरकार से चाहता हूं कि वह संसद में महिला का आरक्षण बिल लाये. हम सपोर्ट करेंगे, अगर यह नहीं करेंगे तो जो हमारी सरकार आएगी तो हम इसको कर देंगे.

उन्होंने कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार के कार्यकाल के दौरान भ्रष्टाचार, आर्थिक विफलता, अक्षमता और सामाजिक भेदभाव चरम पर है. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने पार्टी सांसदों से लोगों को मोदी के ‘अच्छे दिन के झूठे वादे’ का विकल्प देने के लिए कड़ी मेहनत करने को कहा.

मालूम हो कि राहुल गांधी पिछले कुछ समय से महिला सुरक्षा के नाम पर पीएम मोदी और उनकी सरकार पर सीधा निशाना साध रहे हैं. पिछले दिनों बिहार के मुजफ्फरपुर शेल्टर होम की लड़कियों के साथ रेप की घटना के विरोध में दिल्ली में आयोजित विरोध प्रदर्शन में भी राहुल गांधी पहुंचे थे. यहां उन्होंने कहा था कि सिर्फ उन 40 बेटियों ही नहीं, बल्कि देश की प्रत्येक महिला की सुरक्षा आज बड़ा सवाल है.

उन्होंने कहा कि देश के अंदर एसा माहौल बना दिया है कि हर वर्ग पर हमला हो रहा है. राहुल गांधी ने बिहार के मुख्यमंत्री एक बयान का हवाला देते हुए कहा कि अगर नीतीश कुमार को शर्म आ रही है तो दोषियों पर तत्काल कार्रवाई करें. उन्होंने कहा कि देश में एक तरफ़ बीजेपी-आरएसएस है दूसरी तरफ़ विपक्ष है जो देश की साझा संस्कृति को बचाने के लिये खड़ा हो गया है.