बीमारियां अब चलने-फिरने नहीं देतीं, आगे कोई चुनाव नहीं लड़ूंगी: केंद्रीय मंत्री उमा भारती का एलान

झांसी. केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने कहा है कि वे अब आगे कोई चुनाव नहीं लड़ेंगी न ही मध्य प्रदेश के सीएम पद की रेस में रहेंगी। अपने संसदीय क्षेत्र झांसी के दौरे पर आईं उमा भारती ने कहा कि बीमारियों की वजह से वे यह फैसला कर रही हैं।

चलने-फिरने में होती है दिक्कत
– उमा भारती ने मीडिया से कहा, “मेरी कमर और घुटनों की बीमारी चलने फिरने नहीं दे रही हैं। इस कारण मैंने निर्णय लिया है कि मैं अब अगला लोकसभा चुनाव नहीं लड़ूंगी। झांसी की जनता के स्नेह और प्यार की कर्जदार हूं।”

– बता दें कि 2014 के लोकसभा चुनावों में उमा भारती झांसी से चुनाव जीतकर संसद पहुंची थीं।

अब सिर्फ प्रचार करेंगी
– उमा भारती ने कहा, “बीजेपी में जब सिर्फ दो सांसद थे तब से लेकर अब तक पार्टी के लिए काम कर रही हूं। पार्टी के लिए कई सालों तक कड़ी मेहनत की है। 54 साल की उम्र में शरीर जवाब दे गया है। मुझे इस बात की बहुत खुशी है कि बीजेपी देश की सबसे बड़ी राजनीतिक पार्टी बन गई है।”

– उन्होंने आगे कहा, “मध्य प्रदेश के विधानसभा चुनावों में केवल प्रचारक की भूमिका में रहूंगी। ना ही मुझे अब कहीं का सीएम बनना है और मैं ऐसी किसी दौड़ में शामिल भी नहीं हूं।”

‘अगली बार भी नरेंद्र मोदी ही बनेंगे प्रधानमंत्री’
– अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर उमा भारती ने कहा कोर्ट के निर्णय से पहले मैं कुछ नहीं कहूंगी। उन्होंने कहा कि मुझे इस बात का यकीन है कि अगले लोकसभा चुनाव में भी नरेंद्र मोदी देश के पीएम बनेंगे।

मध्य प्रदेश की सीएम रहीं
– उमा भारती का जन्म 3 मई, 1959 को मध्य प्रदेश के टीकमगढ़ जिले में हुआ।
– साध्वी ऋतम्भरा के साथ उमा भारती ने राम जन्मभूमि आन्दोलन में प्रमुख भूमिका निभाई।
– वाजपेयी सरकार में वे मानव संसाधन विकास, पर्यटन और खेल मंत्री जैसे अहम पदों पर रहीं।
– 2003 के मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव उमा भारती की अगुआई में हुए थे। अगस्त 2004 उन्होंने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था।

– पीएम मोदी की कैबिनेट में उन्हें पहले गंगा सफाई मंत्रालय का अहम जिम्मा सौंपा गया था, लेकिन बाद में उनसे यह जिम्मेदारी वापस ले ली गई। अभी वे स्वच्छता और पेयजल मंत्री हैं।