भाजपा और संघ कार्यकर्ताओं पर हमले केसरिया विचारधारा को नहीं रोक सकते

मैसुरू.भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह राज्य में विधानसभा चुनाव के मद्देनजर कर्नाटक दौरे पर हैं। शाह ने शनिवार को यहां कहा- “पार्टी और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ कार्यकर्ताओं पर हमले केसरिया विचारधारा को लोगों तक पहुंचने में रोक नहीं लगा सकते हैं। उन्होंने कहा- “मुझे पूरा भरोसा है कि कर्नाटक में भाजपा विजयी होगी। मैनें पूरे राज्य का दौरा किया है और यही पाया है कि लोग भ्रष्टाचार से तंग आ गए हैं और अब विकास चाहते हैं।”

कांग्रेस के लिए कर्नाटक की सरकार करप्शन की एटीएम
– अमित शाह ने कहा- “कांग्रेस और भ्रष्टाचार हमेशा साथ-साथ रहते हैं और उनका रिश्ता पानी और मछली के जैसा है। राज्य की मौजूदा सिद्धारमैया सरकार ने इसे काफी बढ़ावा दिया है।”

– “राज्य की जनता ने कांग्रेस सरकार को हटाने का मन बना लिया है, क्योंकि ये सरकार भ्रष्टाचार की एटीएम मशीन है। किसानों की आत्महत्याओं को आखिर कोई साजिश कैसे कह सकता है।”

हर चीज नीचे जा रही है राज्य में
– अमित शाह ने कहा- “राज्य में आई टी सेक्टर काफी मजबूत है, लेकिन इसे 24 घंटे बिजली नहीं मिल रही है और केन्द्रीय योजनाओं को लागू करने में देरी हो रही है। 3500 से किसानों ने आत्महत्या की है और जहां तक विकास की बात है तो सभी मानक नीचे जा रहे हैं।”
– “कांग्रेस यहां राज्य में सरकार बनाना चाहती है तो उसके लिए ये करप्शन का एटीएम है। इसके अलावा कांग्रेस के लिए कर्नाटक का कोई महत्व नहीं है।”

बीजेपी सरकार ही बन सकती है
– अमित शाह ने कहा- “अगर कर्नाटक की जनता परिवर्तन करना चाहती है, तो जेडीएस भी यहां सरकार बनाने की स्थिति में नहीं है। अगर कोई एक मात्र विकल्प है तो वह येदियुरप्पा की सरकार है।”
– “जहां तक मैसूर राज्य घराने से मेरी मुलाकात का सवाल है। यह सौजन्य मुलाकात थी और मेरे और उनके बीच में जो बातें हुई हैं , उन्हें मैं सार्वजनिक नहीं कर सकता। दूसरी बात जहां तक लिंगायत समुदाय को अल्पसंख्यक का दर्जा देने की बात है। कांग्रेस चुनावी राजनीति कर रही है।”

– अमित शाह ने रिपोर्ट्स से पूछा कि राज्य की कांग्रेस सरकार को अभी लिंगायत समुदाय को अल्पसंख्यक का दर्जा देने का क्या मतलब है? यह फैसला लेने की जरूरत क्यों पड़ी, जबकि उनकी पिछले 5 साल से सरकार थी। उन्होंने सरकार बनने के बाद फौरन ही क्यों यह फैसला नहीं लिया। दरअसल ये कोशिश बीजेपी की सरकार को बनने से रोकना है।