बेंगलुरु (कर्नाटक). भाजपा नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार हेगड़े ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की स्वतंत्रता के लिए की गई लड़ाई को ड्रामा बताया। इसे लेकर भाजपा के शीर्ष नेतृत्व ने नाराजगी जताई है। सोमवार को पार्टी सूत्रों ने बताया कि पार्टी का शीर्ष नेतृत्व गांधीजी पर दिए गए अनंत हेगड़े के बयान से खासा नाराज है। हेगड़े से बिना किसी शर्त माफी मांगने को कहा गया है। दरअसल, रविवार को एक कार्यक्रम में हेगड़े ने कहा कि स्वाधीनता का पूरा संघर्ष ही बनावटी था और इसे ब्रिटिश साम्राज्य का समर्थन हासिल था। उस दौर के तथाकथित बड़े नेताओं ने एक भी बार पुलिस से मार नहीं खाई थी। उनका स्वतंत्रता आंदोलन ड्रामा था। इन बड़े नेताओं ने अंग्रेजों की इजाजत के बाद यह ड्रामा किया। यह कोई असल लड़ाई नहीं थी, यह दिखावटी संघर्ष था।

हेगड़े ने गांधीजी की भूख हड़ताल और सत्याग्रह आंदोलनों को भी नाटक करार दिया। पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा, “जो लोग कांग्रेस का समर्थन करते हैं, वे यही कहते हैं कि भारत को आजादी भूख हड़ताल और सत्याग्रह से मिली। यह सच नहीं है। अंग्रेजों ने देश को सत्याग्रह की वजह से नहीं छोड़ा। उन्होंने हमें निराशा और हार की वजह से आजादी दी। जब मैं इतिहास पढ़ता हूं, तो मेरा खून खौलता है। ऐसे लोग हमारे देश में महात्मा बन जाते हैं।”

पहले भी विवादास्पद बयानों के लिए चर्चा में रहे हैं हेगड़े

हेगड़े 2014 से 2019 तक केंद्र सरकार कौशल विकास मंत्री रहे। वे 2017 में तब चर्चा में आए थे, तब उन्होंने कहा था कि भाजपा उस संविधान को बदल देगी, जिसमें धर्मनिरपेक्ष शब्द लिखा है। इसके अलावा वे राहुल गांधी पर विवादास्पद टिप्पणी के लिए भी चर्चा में रह चुके हैं। उन्होंने रविवार काे ही ट्वीट किया कि बेंगलुरु को हिंदुत्व की राजधानी बन जाना चाहिए और भारत को हिंदुत्व की राजधानी बन जाना चाहिए। उन्होंने कहा था कि मैं यह कहने से कभी नहीं कतराऊंगा। मुझे इसकी कोई परवाह नहीं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *