भारतीय रिजर्व बैंक अपनी चेतावनी प्रणाली के तहत जल्‍दी ही केन्‍द्रीय जालसाजी पंजीकरण व्‍यवस्‍था शुरू करेगा।

भारतीय रिजर्व बैंक अपनी चेतावनी प्रणाली के तहत जल्‍दी ही केन्‍द्रीय जालसाजी पंजीकरण व्‍यवस्‍था शुरू करेगा। इसके तहत गलत इरादे से कर्ज लेने संबंधी सूचना तेजी से साझा की जा सकेगी, ताकि कर्ज की राशि को डूबने से बचाया जा सके। आर बी आई के एक शीर्ष अधिकारी ने समाचार एजेंसी पी टी आई को बताया कि नई चेतावनी व्‍यवस्‍था बनाने की प्रक्रिया चल रही है। यह प्रणाली रिजर्व बैंक की निगरानी में काम करेगी। फिलहाल ऐसा कोई डेटाबेस नही है जहाँ कर्ज देने वालों को पहले हुए सभी फर्जीवाडों से जुड़ी जानकारी एक ही जगह मिल जाये। नई व्‍यवस्‍था से बैंकों को पहले से अधिक जानकारी मिल सकेगी, और वे कर्ज के लिए पात्रता का चयन ठीक से कर सकेंगे।