भारत-पाक के बीच हुई जंग तो दुनिया के लिए भी होगी दुर्भाग्यपूर्ण

Tatpar 17 Sep 2013

वाशिंगटन। अमेरिका के एक शीर्ष राजनयिक का कहना है कि परमाणु शक्ति सम्पन्न भारत और पाकिस्तान के बीच किसी भी तरह का संघर्ष होता है, तो यह न केवल दक्षिण एशिया के इन दोनों पडोसी देशों बल्कि क्षेत्र और दुनिया के लिए भी दुर्भाग्यपूर्ण होगा। अफगानिस्तान और पाकिस्तान के लिए विशेष अमेरिकी प्रतिनिधि जेम्स डोबिन्स ने यहां विदेशी संवाददाताओं को बताया कि दोनों ही देश परमाणु हथियारों की शक्ति रखते हैं और दोनों के बीच संघर्ष उनके लिए और सभी के लिए दुर्भाग्यपूर्ण होगा।

वॉशिंगटन फॉरेन प्रेस सेंटर में डोबिन्स ने कहा कि अमेरिका दोनों देशों के संबंधों में सुधार की किसी भी पहल का समर्थन करेगा। एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि हमें लगता है कि यह दोनों देशों के लिए, व्यापक क्षेत्र में स्थिरता के लिए और पूरी दुनिया के लिए महत्वपूर्ण है। डोबिन्स ने कहा कि अमेरिका अफगानिस्तान-पाकिस्तान के बीच बेहतर होते संबंधों का समर्थन करता है, क्योंकि इससे अफगानिस्तान में संघर्ष को बढावा देने वाले दबावों और तनावों में कमी आएगी।

उन्होंने कहा कि हमारे दृष्टिकोण से संबंधों में सुधार से सब कुछ हासिल किया जा सकता है। एक प्रश्न के जवाब में डोबिन्स ने कहा कि पाकिस्तान और अमेरिका के संबंधों में भी सुधार हो रहा है। अमेरिका के विदेश मंत्री जॉन केरी ने हाल ही में पाकिस्तान का दौरा किया था। विदेश मंत्री के तौर पर यह उनकी पहली यात्रा थी, हालांकि इससे पहले भी वह व्यक्तिगत तौर पर पाकिस्तान की यात्रा कर चुके हैं। डोबिन्स ने इस दौरे की सराहना की।