भोपाल में अंतर्राष्ट्रीय हर्बल मेला आज से

तीसरा अंतर्राष्ट्रीय हर्बल मेला 19 दिसम्बर से भोपाल में शुरू हो रहा है, जो 23 दिसम्बर, 2014 तक चलेगा। अपनी लोकप्रियता के चलते वर्ष 2001 से राष्ट्रीय-स्तर पर आयोजित होने वाला मेला वर्ष 2011 से अंतर्राष्ट्रीय स्वरूप धारण कर चुका है।

मध्यप्रदेश राज्य लघु वनोपज सहकारी संघ, वन विभाग तथा राष्ट्रीय औषधीय पादप बोर्ड, भारत सरकार के संयुक्त तत्वावधान में हर्बल मेला शाम 6 बजे से लाल परेड ग्राउण्ड, भोपाल में शुरू होगा। सार्क देशों के प्रतिनिधि मेले में भाग लेने के लिये पहुँच चुके हैं। मेले में प्रदेश के विभिन्न जिले की प्राथमिक-वनोपज सहकारी समिति, निजी हर्बल उत्पादक और क्रेता, आयातक-निर्यातक, स्वेच्छिक संगठन, अनुसंधानकर्ता, अन्य राज्यों के लघु वनोपज विशेषज्ञ, औषधि निर्माता आदि भाग लेंगे। मेले में लगभग 250 स्टॉल होंगे और आम लोगों के लिये चिकित्सक और वैद्य भी सुलभ रहेंगे। हर साल होने वाले हर्बल मेले में एक लाख से अधिक लोग आते हैं। गत मेलों में करोड़ों रुपये के एम.ओ.यू. हस्ताक्षरित हो चुके हैं। मेले का उद्देश्य मध्यप्रदेश में उपलब्ध लघु वनोपज की प्रचुरता के साथ ही वनों पर निर्भर और लघु वन उपजों के संग्रहण में संलग्न अनुसूचित जाति-जनजाति के संग्राहकों को लाभान्वित करना है।