मंत्रियों से मुख्यमंत्री करेंगे सीधी बात

Tatpar 3 Jan 2014

भोपाल [ब्यूरो]। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान शुक्रवार को वन-टू-वन चर्चा में आला अफसरों की बजाए विभाग के मंत्री से सीधी बात करेंगे। इसके पहले मुख्य सचिव कार्यालय ने सभी अफसरों को वन-टू-वन चर्चा करने का संदेश दिया था।

मुख्यमंत्री के निर्देश के बाद सामान्य प्रशासन विभाग ने नए निर्देश जारी कर स्पष्ट कर दिया है कि अपने-अपने विभाग की कार्ययोजना की जानकारी विभागीय मंत्री ही देंगे। आला अफसर चुप बैठेंगे। वन-टू-वन में मंत्री के अटकने पर अफसर उनकी मदद करेंगे।

मुख्यमंत्री ने 20 मंत्रियों को वन-टू-वन के लिए बुलाया है। इनमें से 9 मंत्रियों को 10 मिनट में अपने विभागों की कार्ययोजना बताने का समय दिया है। वहीं 11 मंत्रियों को मात्र 5 मिनट में अपने विभाग की बात प्रभावी तरीके से रखना होगी। जीएडी के निर्देश मिलने के बाद सभी आला अफसर गुरवार को अपने-अपने मंत्रियों को वन-टू-वन चर्चा के लिए तैयार करते नजर आए। कुछ मंत्रियों ने तो आला अफसरों को अपने बंगले बुलाकर योजना समझी। वहीं कुछ मंत्री गुरुवार देर शाम राजधानी पहुंचे। इन्होंने विभाग की 100 दिवसीय कार्ययोजना समझने के लिए आला अफसरों को सुबह 9 बजे मंत्रालय बुलाया है।

मलैया को 10तो शाह को 5 मिनट

-मंत्री जयंत मलैया को चार विभाग जल संसाधन, वित्त, वाणिज्यिक कर एवं योजना आर्थिकी सांख्यिकी की 100 दिवसीय कार्ययोजना के लिए 10 मिनट दिए हैं।

-गोपाल भार्गव को तीन विभाग पंचायत एवं ग्रामीण विकास, सामाजिक न्याय एवं सहकारिता के लिए 10 मिनट।

-गौरीशंकर शेजवार को वन विभाग के लिए 5 मिनट ।

-सरताज सिंह को लोक निर्माण विभाग के लिए 5 मिनट।

-नरोत्तम मिश्रा एवं राज्यमंत्री शरद जैन को तीन विभाग स्वास्थ्य, चिकित्सा शिक्षा एवं आयुष के लिए 10 मिनट।

-विजय शाह को खाद्य, नागरिक आपूति के लिए 5 मिनट।

-गौरीशंकर बिसेन को कृषि विभाग के लिए 10 मिनट।

-उमाशंकर गुप्ता एवं राज्यमंत्री दीपक जोशी को तकनीकी शिक्षा, उच्च शिक्षा के लिए 10 मिनट।

-कुसुम सिंह महदेले को पांच विभाग पशुपालन, उद्यानिकी, मछुआ कल्याण, कुटीर ग्रामेद्योग एवं पीएचई के लिए 10 मिनट।

-यशोधरा राजे सिंधिया को दो विभाग उद्योग, खेल एवं युवक कल्याण के लिए 10 मिनट।

-राजेन्द्र शुक्ला को तीन विभाग ऊर्जा, नवीन एवं नवकरणीय ऊर्जा, खनिज के लिए 10 मिनट।

-अंतर सिंह आर्य को श्रम, पिछ़़डा वर्ग एवं अल्पसंख्यक, विमुक्त एवं घुम्मक़़ड के लिए 5 मिनट।

-रामपाल सिंह को राजस्व के लिए 5 मिनट।

-ज्ञानसिंह को दो विभाग आदिम जाति एवं अनुसूचित जाति के लिए 5 मिनट।

-माया सिंह को महिला एवं बाल विकास के लिए 5 मिनट।

-भूपेंद्र सिंह ठाकुर को तीन विभाग परिवहन, सूचना प्रौद्योगिकी एवं लोक सेवा गारंटी को 5 मिनट।

-राज्यमंत्री लाल सिंह आर्य को दो विभाग नर्मदा घाटी एवं जीएडी के लिए 5 मिनट।

-राज्यमंत्री सुरेन्द्र पटवा को दो विभाग संस्कृति एवं पर्यटन के लिए 5 मिनट का समय दिया गया है।

गौर, कैलाश, पारस नहीं करेंगे चर्चा

बाबूलाल गौर गृह मंत्री, कैलाश विजयवर्गीय आवास एवं पर्यावरण, नगरीय प्रशासन मंत्री और पारस जैन स्कूल शिक्षा मंत्री शुक्रवार को राजधानी में न होने के कारण मुख्यमंत्री से वन-टू-वन चर्चा नहीं करेंगे।

बताया जाता है कि पारसचंद्र जैन ने तो मुख्यमंत्री से 4 तारीख को विभाग की 100 दिवसीय कार्ययोजना बताने के लिए समय ले लिया है, लेकिन गौर और विजयवर्गीय के विभागों के वन-टू-वन के लिए अभी समय तय नहीं हो पाया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *