मंदसौर दुष्‍कर्म पर फूटा मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का गुस्‍सा, बोले- ये दरिंदे धरती पर बोझ

मध्य प्रदेश के मंदसौर में आठ साल की बच्‍ची के साथ दुष्‍कर्म और धारदार हथियार से गला रेतकर हत्‍या की कोशिश को लेकर जहां आम लोगों का गुस्‍सा फूट पड़ा है, वहीं राज्‍य के मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी घटना पर भारी नाराजगी जताते हुए रेपिस्‍टों को ‘दरिंदा’ बताया और कहा कि उन्‍हें जीने का हक बिल्‍कुल भी नहीं है।

मंदसौर घटना पर दु:ख और चिंता व्यक्त करते हुए मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि ऐसे मामलों की सुनवाई फास्‍ट ट्रैक अदालतों में होनी चाहिए। सुप्रीम कोर्ट और हाई कोर्ट में भी इनका निपटारा जल्‍द से जल्‍द होना चाहिए, ताकि ऐसे घृणित व मानवता को शर्मशार करने वाली वारदातों को अंजाम देने वालों को जल्‍द से जल्‍द फांसी दी जा सके। उन्‍होंने कहा, ‘ये दरिंदे धरती पर बोझ हैं, इन्‍हें यहां जीने का कोई हक नहीं है।’

चौहान ने शुक्रवार को संवाददाताओं से बातचीत में कहा, ‘बलात्कार के मामलों में हमने प्रदेश में फास्ट ट्रैक अदालत में कार्यवाही के प्रावधान किए हैं। सुप्रीम कोर्ट और हाई कोर्ट से भी इस प्रकार के प्रावधान करने का अनुरोध किया है, ताकि ऐसे अपराधियों के खिलाफ जल्‍द से जल्‍द अदालती कार्यवाही पूरी कर उन्‍हें फांसी की सजा दी जा सके।’

गौरतलब है कि मंदसौर में मंगलवार को 20 साल के एक युवक ने आठ साल की बच्‍ची को उस वक्‍त अगवा कर लिया था, जब वह स्‍कूल के बाद अपने पिता का इंतजार कर रही थी। पुलिस के अनुसार, वह बच्‍ची को किसी सुनसान जगह पर गया और धारदार हथियार से गला रेतकर उसकी हत्‍या की कोशिश की।

पुलिस ने बुधवार को बच्‍ची को गंभीर हालत में पाया। उसका फिलहाल इंदौर के एमवाय अस्‍पताल में इलाज चल रहा है, जहां उसका इलाज कर रहे डॉक्‍टरों ने भी उसके साथ हुई हैवानियत पर हैरानी जताई है। डॉक्‍टरों का कहना है कि उसकी हालत को देखते हुए लगता है कि उसके साथ दुष्‍कर्म के बाद प्राइवेट पार्ट में रॉड या लकड़ी की स्टिक भी डाली गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *