मध्य प्रदेश के गृह मंत्री गौर ने कहा- शराब पीना गलत नहीं, संवैधानिक हक है

नई दिल्ली. मध्य प्रदेश के गृह मंत्री बाबूलाल गौर शराब पर विवादित बयान देकर एक बार फिर सुर्खियों में आ गए हैं। महिला सुरक्षा पर एक सवाल के जवाब में उन्होंने ने कहा, ”शराब पीना कोई अपराध नहीं, बल्कि किसी भी नागरिक का संवैधानिक अधिकार है। शराब पीना एक स्टेटस सिंबल है।” उन्होंने कहा, ‘शराब पीना गलत नहीं है। हां, पीकर बहकना गलत बात है।’ शिवराज सरकार में मंत्री बाबूलाल इसके पहले भी कई बार अपने बयानों से बीजेपी और सरकार को खतरे में डाल चुके हैं।
गौर ने रेप की तुलना चेन लूट से की
प्रदेश में महिला सुरक्षा पर गृहमंत्री ने कहा कि जब कोई महिला चेन लूट की शिकायत करने थाने आ सकती हैं तो कजलीगढ़ की कपल्स के साथ ज्यादती की शिकायत भी करें, तब तो पुलिस कार्रवाई करेगी।
कांग्रेस ने की निंदा
कांग्रेस नेता मानक अग्रवाल ने गौर के बयान की निंदा की। उन्होंने कहा, ‘शराब एक सामाजिक बुराई है, इसे बैन करने के स्थान पर गृहमंत्री इसे प्रमोट कर रहे हैं। यह प्रदेश की जनता का दुर्भाग्य है।’
क्या था मामला?
इंदौर के पास कजलीगढ़ पिकनिक स्पॉट पर यौन शोषण के मामले सामने आने पर गृहमंत्री से महिला सुरक्षा और शराब की दुकानों के खुलने का समय बढ़ाने पर सवाल पूछा गया था। इसके बाद उन्होंने यह विवादित बयान दिया है। गौरतलब है इंदौर से 16 किमी दूर पिकनिक स्पॉट कजलीगढ़ में प्रेमी जोड़ों को निशाना बनाकर 2 साल में 45 लड़कियों का गैंगरेप करने वाले गिरोह के सभी आरोपी नशे में रेप की वारदात करते थे।