मध्य प्रदेश में जनजातीय किसानों ने खंडवा जिले में अपने खेतों में जल सत्याग्रह शुरू कर दिया है।

मध्य प्रदेश में जनजातीय किसानों ने खंडवा जिले में अपने खेतों में जल सत्याग्रह शुरू कर दिया है। उनके खेतों में ओंकारेश्वर बांध के पानी से बाढ़ जैसी स्थिति बन गई है।  प्रभावित लोग पर्याप्त रकम या सुरक्षित स्थान पर वैकल्पिक जमीन की मांग कर रहे हैं।

नर्मदा नदी पर बने ओंकारेश्‍वर बांध की ऊंचाई 91 मीटर बढ़ाये जाने से भोगल गांव के खेतों में पानी भर गया है जिससे किसानों के समक्ष रोजी रोटी का संकट उत्‍पन्‍न हो गया है। किसान अब घुटनों तक पानी में स्‍वयं को डूबाए हुए हैं और हाथ में तख्तियां लिए हुए हैं जिन पर विजय या वीरगति लिखा हुआ है। नर्मदा बचाओ आंदोलन के नेता चित्ररूपा पालित ने कहा है कि करीब 500 ऐसे किसान हैं जिनके पास पांच एकड़ से भी कम भूमि है। वे बांध की ऊंचाई बढ़ाने जाने से बुरी तरह प्रभावित हुए हैं।