मनोहर पर्रिकर के निधन पर एक दिन के राष्ट्रीय शोक की घोषणा, कई बड़े नेताओं ने जताया शोक

गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर का रविवार शाम उनके निजी आवास पर निधन हो गया। इस घटना के बाद देश के कई बड़े नेताओं ने शोक जताया है। उनका अंतिम संस्‍कार पणजी के एसएजी मैदान में किया जाएगा। देश भर में एक दिन के राष्ट्रीय शोक की घोषणा की गयी है।

मनोहर पर्रिकर के निधन पर केंद्र सरकार ने आज एक दिन के राष्ट्रीय शोक की घोषणा की है। इस दौरान देश की राजधानी के साथ राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों की राजधानियों का राष्ट्रीय ध्वज आधा झुका रहेगा। गोवा के लोगों के इस लोकप्रिय नेता के निधन पर राज्य में सात दिन के शोक की घोषणा की गई है। पर्रिकर के निधन के बाद राज्य में विधायक दल की बैठक होनी है, जिसके लिए केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी गोवा में हैं। उन्होंने राज्य में भाजपा के गठबंधन सहयोगियों के साथ मुलाकात की। पर्रिकर को श्रद्धांजलि देने के लिए आज सुबह केंद्रीय कैबिनेट की बैठक भी बुलाई गई है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मनोहर पर्रिकर के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए देश को दिए उनके योगदान को याद किया। प्रधानमंत्री ने कहा कि श्री मनोहर पर्रिकर एक अद्वितीय नेता थे। वे एक सच्चे देशभक्त और असाधारण प्रशासक थे। उन्हें सभी पसंद करते थे। राष्ट्र के प्रति उनकी महान सेवा को पीढ़ियों तक याद किया जाएगा। श्री मनोहर पर्रिकर आधुनिक गोवा के निर्माता थे। उनके मिलनसार व्यक्तित्व और सुलभ स्वभाव के लिए धन्यवाद।

वह वर्षों तक राज्य के पसंदीदा नेता बने रहे। उनकी लोकहित की नीतियों ने गोवा को प्रगति की उल्लेखनीय ऊंचाइयों पर पहुंचाया। श्री मनोहर पर्रिकर के रक्षा मंत्री के रूप में कार्यकाल के लिए देश सदा आभारी रहेगा। जब वह रक्षा मंत्री थे, तो उन्होंने ऐसे फैसले लिए जिसने भारत की सुरक्षा क्षमताओं को बढ़ाया, स्वदेशी रक्षा उत्पादन को बढ़ाया और पूर्व सैनिकों के जीवन को बेहतर बनाया। उनके निधन से मुझे गहरा दु:ख हुआ।

सूचना प्रसारण मंत्री राज्यवर्धन राठौर ने ट्वीट कर मनोहर पर्रिकर के निधन पर शोक जताया। उन्होंने कहा- “सरल, परिश्रमी और कुशाग्र व्यक्तित्व के धनी मनोहर पर्रिकर जी सत्यनिष्ठा का अनुपम उदाहरण थे। उनका निधन हमारे देशवासियों, गोवा के लोगों और भाजपा के लिए अपूर्णनीय क्षति है। मुझे उनको करीब से जानने का सौभाग्य मिला।

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि पर्रिकर ने दिखाया कि कैसे भाजपा का एक कार्यकर्ता कठिन समय में भी, राष्ट्र सर्वप्रथम, फिर पार्टी और स्वयं को अंत में रखने के सिद्धांत पर अटल रहता है।अमित शाह ने कहा मनोहर पर्रिकर का निधन बेहद दुखदायी है। रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने भी उनके निधन पर शोक जताते हुए कहा कि सशस्त्र बलों को ताकतवर और आधुनिक बनाने में उनका योगदान अद्वितीय है।