मप्र में भारी बारिश : इंदौर में 33 साल का रिकॉर्ड टूटा, 6 की मौत

इंदौर। इस बार कम बारिश के तमाम दावे झूठे साबित हुए हैं। एक माह में ही बारिश का ऐसा कहर बरपा की पूरे साल का कोट पूरा हो गया। मंगलवार सुबह से शुरू बारिश का दौरान बुधवार को भी लगातार जारी है। बीते 24 घंटे में 191.2 मिमी बारिश हो चुकी है, यानी करीब 8 इंच बारिश। इसे मिलाकर अब तक 40 इंच बारिश हो चुकी है। लगातार बारिश से इंदौर में नया रिकॉर्ड कायम हो गया है। 33 साल पहले अगस्त महीने में एक दिन में इतनी बारिश हुई थी। जिले में लगातार बारिश से 6 लोगों की मौत हो गई है, वहीं लाखों लोग प्रभावित हुए हैं।
 आईआईएम की दीवार गिरने से तीन की मौत
तेज बारिश के बाद आईआईएम के पास बनी दीवार भरभरा कर गिर गई है। दीवार गिरने से एक महिला सहित तीन लोगों की मौत हो गई। महिला का घर दीवार से सटकर ही बना हुआ था। वह यहां पर अपने दो बच्चों के साथ रहती थी। रात में दीवार धंसने से तीनों उसकी चपेट में आ गए और और उन्हाेंने दम तोड़ दिया। महिला किराना दुकान संचालित करती थी। रातभर शव मलबे में ही दबे रहे। सुबह लोगों ने इसकी जानकारी पुलिस को दी। रिश्तेदारों ने महिला की पहचान सीमा पति महेश के रूप में की है। वहीं हादसे में 10 वर्षीय लक्की और 12 वर्षीय कालू की भी मौत हो गई है।
 कुएं में मिला महिला की लाश
किशनगंज कॉलोनी में ही रहने वाली एक महिला बारिश के पानी में बहकर कुएं में जा गिरी, जिससे उसकी मौत हो गई। वहीं नया बसेरा काॅलोनी में भी बारिश के चलते एक महिला की मौत हो गई है। इसके अलावा हाथीपाला क्षेत्र में भी एक युवक का शव पानी में तैरता मिला।
 इंदौर की 250 से ज्यादा क्षेत्र पानी-पानी
महापौर मालिनी गौड़, कलेक्टर पी. नरहरि और निगमायुक्त भी शहर की सड़कों पर जायजा लेने निकले। शहर में ढाई सौ से ज्यादा स्थानों पर पानी भरने की शिकायतें मिली हैं, वहीं 30 से ज्यादा स्थानों पर पेड़ गिरे हैं। इसमें चंद्रभागा और हाथीपाला के अलावा नंदबाग में तो होमगार्ड की मदद लेकर लोगों को निकाला जा रहा है। इसके अलावा पीपल्यापाला एयरपोर्ट रोड, बीजासन मंदिर के पास पटेल नगर, कान्यकुब्ज काॅलोनी, लोहारपट्टी, बियाबानी, क्षेत्र क्रं. में नंदबाग, बाणगंगा, कुशवाह नगर, छोटा बांगड़दा, गीता नगर, चंदननगर, अन्नपूर्णा रोड, महू नाका, अन्नपूर्णा मंदिर, पीपल्याहाना चौराहा पानी-पानी हो चुका है।
ये जिले भी पानी-पानी
– बुरहानपुर में 24 घंटे में 6.5 इंच बारिश हुई है। बारिश से ताप्ती नदी उफान पर है। कई निचली बस्तियों में पानी भर गया है।
– खरगोन जिले में 24 घंटे में 5.8 इंच बारिश दर्ज की गई है। नर्मदा का जलस्तर बढ़ने से घाट पर बने मंदिर डूबने लगे हैं।
– देवास में 24 घंटे में 4 इंच, जबकि सोनकच्छ में 9 इंच बारिश दर्ज की गई है। क्षिप्रा नदी उफान पर होने से कई गांव की कनेक्टीविटी टूट गई। सोनकच्छ में कालीसिंध उफनी, जिस कारण इंदौर-बैतूल इाईवे सहित कई मार्ग बंंद हो गए।
– खंडवा में 24 घंटे में करीब 16 इंच बारिश दर्ज की गई है। इससे बसला बिहार, चंबा तालाब और नवचंडी मंदिर क्षेत्र जलमग्न हो गए।
– धार-सरदारपुर में साढ़े 4 बारिश, धरमपुरी में 8, बदनावर में 6 दर्ज। बारिश के कारण इंदौर-अहमदाबाद हाईवे साढ़े पांच घंटे बंद रहा।
– महू में 24 घंटे में 7 इंच बारिश होने से पटरियां डूब गईं। साथ ही निचली बस्तियां जलमग्न होने से जन-जीवन प्रभावित हो गया है।
मौसम विभाग ने अलर्ट जारी किया 
मौसम विभाग ने इंदौर और उज्जैन खंड़वा, बुरहानपुर, खरगाेन, बड़वानी, देवास आदि जिलों में भी अलर्ट जारी कर दिया है। यहां पर अधिकतर जिलों में भारी बारिश की संभावाना जताई गई है। मौसम निदेशक अनुपम काश्यपी के अनुसार इंदौर, उज्जैन संभाग सहित प्रदेश के ज्यादातर जगहों पर चक्रवात के कारण भारी बारिश होगी। इस दौरान 25 से 35 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से हवा चल रही है।