महाविनाश: गम, दर्द और गुस्से के बीच ‘तू-तू मैं-मैं’

tatpar 24 june 2013

नई दिल्ली। उत्तराखंड में भयंकर प्राकृतिक आपदा के बाद जहां आमजन गम, दर्द और गुस्से में हैं, वहीं देश की दो बड़ी सियासी पार्टियां राहत और बचाव को लेकर तू-तू मैं-मैं पर उतर आई है। दोनों एक-दूसरे पर राहत के नाम पर राजनीति करने का आरोप लगा रहे हैं।

पहले बात करते हैं भाजपा की। गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी राहत दल के साथ उत्तराखंड पहुंचे और 15 हजार गुजरातियों को बचाने और उन्हें गंतव्य स्थल तक पहुंचाने का दावा किया तो तुरंत कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह की प्रतिक्रिया आ गई। उन्होंने मोदी को ‘फेकू’ बताते हुए सेना द्वारा बचाए गए लोगों का क्रेडिट खुद लेने का आरोप जड़ दिया। इस पर भाजपा कहां चूकने वाली थी। उसने कहा कि वहां लोग जिंदगी की जंग लड़ रहे हैं और यहां कांग्रेस उसे सियासी रंग देने में लगी है।

अब ऐसी ही कुछ स्थिति कांग्रेस के साथ हो गई है। जो आरोप उसने भाजपा पर लगाए थे अब वही आरोप उस पर लगाए जा रहे हैं। भाजपा ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी द्वारा राहत सामग्रियों से लदे 25 ट्रक को कांग्रेसी झंडा दिखाकर उत्तराखंड रवाना करने को राजनीतिक स्टंट करार दिया है। भाजपा ने सवाल किया है कि ये कोई उत्सव या कार्यक्रम नहीं है जिसके लिए इतना तामझाम किया जाए। वहीं, दूसरी ओर, ट्विटर पर भी लोग कांग्रेस पर तंज कस रहे हैं।

रोचक ट्वीट्स

-लोग लिख रहे हैं यह कोई फार्मूला वन की रेस नहीं है जिसे झंडी दिखाकर रवाना किया जा रहा है। यह सरासर राहत के नाम पर राजनीति है। इस पर तो कांग्रेस को शर्म आनी चाहिए।

-दीपाली लिखती हैं कि यहां भी कांग्रेस ने तारीफ का पुलिंदा बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ी। कांग्रेस का झंडा तो फहरा कर ट्रक रवाना किया ही है इसके साथ ही ट्रक के आगे कांग्रेस पार्टी के नाम का बैनर भी लगा दिया है।