माेदी कैबिनेट में यूपी से 3 चेहरे लगभग तय, जानें क्‍यों मिल रही है इन्‍हें जगह

लखनऊ.नरेंद्र मोदी मंगलवार को कैबिनेट में फेरबदल करने जा रहे हैं। वह 19 नेताओं को एंट्री दे सकते हैं, जबकि 12 मंत्रियों का कद घटाने या उन्हें हटाए जाने की भी खबर है। माना जा रहा है कि 75 साल से ऊपर के नेताओं को मंत्री नहीं बनाया जाएगा। वहीं, अगले साले होने वाले विधानसभा चुनाव को देखते हुए यूपी काफी इम्‍पॉरटेंट माना जा रहा है। यहां शाहजहांपुर से सांसद कृष्‍णा राज और चंदौली से सांसद महेंद्र नाथ पांडेय ने कैबिनेट में शामिल होने की खबर की पुष्टि की है। मिर्जापुर से सांसद अनुप्रिया पटेल को भी कैबिनेट में जगह मिल सकती है।
सरकार ने दी बड़ी जिम्‍मेदारी
– कैबिनेट विस्‍तार पर शाहजहांपुर सांसद कृष्‍णा राज ने कहा कि सरकार उन्‍हें काफी बड़ी जिम्‍मेदारी सौंपी है।
– वह इसे पूरी तरह से निभाने की कोशिश की कोशिश करेंगी।
– वहीं, चंदौली सांसद महेंद्र नाथ पांडेय ने कहा कि जो भी जिम्‍मेदारी पार्टी देगी, वह उसे पूरा करने का प्रयास करेंगे।
कौन हैं कृष्‍णा राय?
– इस समय पासी कम्‍युनिटी की कृष्णा राय शाहजहांपुर से सांसद हैं। वह दो बार लखीमपुर के मोहम्मदी से विधायक रह चुकी हैं।
– पहली बार वह शाहजहांपुर से सांसद बनी हैं।
क्‍यों मिल रही है कैबिनेट में जगह?
– कहा जाता है कि कृष्णा राय बीजेपी का बेदाग चेहरा हैं। साथ ही वह दलित भी हैं।
– ऐसे में वह सीधे तौर पर बसपा के कोर वोट बैंक में सेंध लगा सकती हैं।
– बीजेपी रूहेलखंड में कृष्णा राय को दलित चेहरे के रूप में प्रोजेक्ट कर उनका फायदा उठा सकती है।
कौन हैं महेंद्र नाथ पांडेय?
– डॉ. महेंद्र नाथ पांडेय इस समय चंदौली से सांसद हैं।
– वह पूर्वांचल के बड़े नेताओं में गिने जाते हैं।
क्यों बनाया जा रहा मंत्री?
– दरअसल, जहां महेंद्र नाथ के भरोसे यूपी इलेक्शन में ब्राह्मण वोट खींचे जा सकते हैं, तो वहीं वह अन्‍य सवर्ण वोटों को भी ला सकते हैं।
– यही नहीं, वह पूर्वांचल में मोदी का किले वाराणसी को भी मजबूत करने में मदद कर सकते हैं।
अनुप्रिया पटेल का भी मंत्री बनना लगभग तय
– अनुप्रिया पटेल इस समय मिर्जापुर से सांसद हैं। वह 2012 में रोहनिया विधानसभा क्षेत्र से विधायक थीं।
– साल 2009 में उनकी शादी इंजीनियर आशीष सिंह से हुई थी। शादी के ठीक 12 दिन बाद पिता डाॅ. सोनेलाल पटेल की अक्‍टूबर 2009 में सड़क हादसे में मौत हो गई थी।
– इसके बाद अनुप्रिया पॉलिटिक्‍स में आईं और अपना दल की महासचिव बनीं। वहीं, उनकी मां कृष्णा पटेल राष्ट्रीय अध्यक्ष बनीं।
पटेल के मंत्री बनने की ये है वजह
– कहा जाता है कि अनुप्रिया की कुर्मी वोटों पर अच्‍छी पकड़ है।
– साथ ही उनके मंत्री बनने से वाराणसी भी मजबूत होगा।
– वहां शहर में तो बीजेपी की पकड़ है, लेकिन ग्रामीण इलाकों में अभी भी कमजोर है।
– ऐसे में अनुप्रिया वहां बीजेपी के लिए अहम रोल प्‍ले कर सकती हैं।
ये है अनुप्रिया का बैकग्राउंड
– अनुप्रिया का जन्म 28 अप्रैल 1981 को कानपुर में हुआ था। उनकी शुरुआती पढ़ाई कई शहरों में हुई।
– दिल्ली के लेडी श्री राम कॉलेज से पढ़ाई के बाद उन्‍होंने मास्टर इन बिजनेस मैनेजमेंट की डिग्री प्राप्त की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *