मीटू: एमजे अकबर ने पत्रकार प्रिया रमानी के खिलाफ दर्ज कराया मानहानि का मुकदमा

केंद्रीय मंत्री एमजे अकबर ने पत्रकार प्रिया रमानी के खिलाफ मानहानि का मुकदमा दर्ज कराया है। यह केस दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट में उन्होंने अपने वकीलों करंजवाला एंड कंपनी के माध्यम से किया है। इससे पहले रविवार को एमजे अकबर ने सोशल मीडिया पर ‘मीटू अभियान’ के तहत अपने खिलाफ लगाए गए आरोपों को मनगढ़ंत और झूठा करार दिया था। उन्होंने कहा था कि आरोप लगाने वाली महिलाओं के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करेंगे।

एमजे अकबर ने अपने खिलाफ चलाए गए अभियान के पीछे बड़ी साजिश का संकेत देते हुए उन्होंने कहा था कि आम चुनाव के चंद महीने पहले शुरू किये इस अभियान के पीछे छिपे एजेंडे को लोग समझ सकते हैं। उधर, सरकार ने पहले ही साफ कर दिया था कि दौरे से लौटने के बाद खुद अकबर आरोपों पर स्थिति साफ करेंगे।

नाइजीरिया के सरकारी दौरे से रविवार सुबह लौटे एमजे अकबर ने दोपहर बाद बयान जारी कर अपने खिलाफ चलाए जा रहे अभियान का बिंदुवार जवाब दिए। उन्होंने कहा कि झूठ के पांव नहीं होते हैं, लेकिन उसमें जहर भरा होता है। इस जहर भरे झूठ को सनक में उनपर फेंका जा रहा है, जो काफी दुखद है। इन आरोपों से उनकी प्रतिष्ठा का अपूर्णीय क्षति हुई है। झूठे आरोप लगाने वाली महिलाओं के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की धमकी देते हुए उन्होंने कहा कि इसके लिए उनके वकील उचित कदम उठाएंगे।

अकबर ने कहा कि कुछ तबकों में बिना किसी सबूत के आरोप लगाने की बीमारी हो गई है। लेकिन, अभियान के दौरान ही आरोपों के झूठ पुलिंदा खुल गया। उन्होंने कहा कि एक साल पहले प्रिया रमानी नाम की महिला ने एक पत्रिका में लेख लिखकर उनके खिलाफ अभियान शुरू किया था, लेकिन उस लेख में कहीं भी उनका नाम नहीं था। अकबर के अनुसार अभियान शुरू होने के बाद जब रमानी खुद ट्वीट कर साफ किया कि ‘नाम इसीलिए नहीं लिया, क्योंकि उन्होंने कुछ किया ही नहीं था।’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *