मुखयमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कार्यकारी मुख्‍य सचिव की नियुक्ति पर विवादों के बीच राष्‍ट्रपति से मुलाकात की।

दिल्‍ली के उपराज्‍यपाल द्वारा राज्‍य सरकार से सलाह-मशविरा किए बिना कार्यवाहक मुख्‍य सचिव के रूप में शकुन्‍तला गामलिन की नियुक्ति को लेकर उत्‍पन्‍न विवाद के बीच मुख्‍यमंत्री अरविन्‍द केजरीवाल ने आज राष्‍ट्रपति प्रणब मुखर्जी से मुलाकात की। उप मुख्‍यमंत्री मनीष सिसोदिया भी उनके साथ थे। बाद में श्री सिसोदिया ने बताया कि श्री केजरीवाल ने राष्‍टपति को बताया कि उप राज्‍यपाल नजीब जंग इस तरह काम कर रहे हैं जैसे कि दिल्‍ली में राष्‍ट्रपति शासन लागू हो।

शकुंतला जी एक्टिंग चीफ सेकेट्री के रूप में काम कर रही हैं, हमनें उसको एक्‍सेप्‍ट कर लिया है। पर उसके बाद वो सेकेट्रीज के अप्‍वाइंटमें में भी दखल दे रहे हैं। अगर सेकेट्रीज भी एल जी साहब तय करेंगे, आफिसर को सीधे इंस्‍ट्रक्‍शन एल जी साहब देंगे तो डेमोक्रेसी कहां बचेगी। श्री सिसोदिया ने बताया कि मुख्‍यमंत्री ने राष्‍ट्रपति से अनुरोध किया कि वे उप राज्‍यपाल से कहें कि वे प्रशासनिक मामलों में हस्‍तक्षेप न करें क्‍योंकि यह सरकार का अधिकार क्षेत्र है।