मेमन के घर के बाहर जुटे हजारों, सुरक्षा में तैनात 35000 पुलिसवाले

मुंबई/नागपुर. 1993 मुंबई सीरियल ब्लास्ट के दोषी याकूब मेमन का शव मुंबई के माहिम स्थित उसके घर लाया गया है। माहिम में जहां मेमन फैमिली रहती है उस इलाके में हजारों लोगों की भीड़ जुटनी शुरू हो गई है। साढ़े चार बजे उसे मुंबई के बड़ा कब्रिस्तान में दफनाया जाएगा। मुंबई में सुरक्षा कड़ी कर दी गई है और पूरे शहर में 35 हजार जवान हैं, जिसमें रैपिड एक्शन और सेंट्रेल फोर्सेज के जवान भी शामिल हैं। पुलिस ने 300 लोगों को प्रिवेंटिव कस्टडी में ले लिया है। इससे पहले गुरुवार सुबह 7 बजे याकूब को फांसी के फंदे पर लटकाया गया और 7 बज कर 10 मिनट पर उसकी बॉडी को नीचे उतारा गया।

03:20PM: माहिम की दरगाह में याकूब के लिए उसके पड़ोसियों, रिश्तेदारों ने पढ़ी दुआ। दफनाने से पहले इसी दरगाह से होगी जनाजा की नमाज।
………………………
03:00PM: एक्टर और याकूब को फांसी न देने के सपोर्ट में प्रेसिडेंट को लेटर लिखने वालों में शामिल बीजेपी सांसद शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा,” एक आर्टिस्ट, एक इंसान के रूप में मैं मौत की सजा का विरोध करता हूं। लेकिन जस्टिस भी उतना ही जरूरी है।”
………………………
02:26PM: किसी भी हालात से निपटने के लिए 35 हजार पुलिस वाले मुंबई के विभिन्न इलाकों में तैनात किए गए हैं। इसमें रैपिड एक्शन और सेंट्रल फोर्सेज के जवान भी शामिल हैं।
………………………
02:20PM: माहिम में जहां मेमन फैमिली रहती है उस इलाके में हजारों लोगों की भीड़ जुटनी शुरू हो गई है।
………………………
01:51PM: याकूब को 4.30 बजे दफनाया जाएगा।
………………………
01:40PM: सुप्रीम कोर्ट के सीनियर एडवोकेट और बुधवार की रात याकूब की पैरवी करने वाले प्रशांत भूषण ने कहा कि जल्द से जल्द फांसी पर लटकाए जाने का फैसला दुर्भाग्यपूर्ण है। उसकी पिटीशन खारिज होने के बाद उसे कम से कम तय वक्त तो मिलना चाहिए था। इंडियन ज्यूडिशियरी और डेमोक्रेसी के लिए दुखद दिन है।
………………………
01:20PM: याकूब मेमन का शव मुंबई के माहिम स्थित उसके घर लाया गया है।
………………………
01:15PM: माहिम में याकूब के घर पहुंचे मुंबई पुलिस के कमिश्नर राकेश मारिया। मेमन फैमिली को शव यात्रा निकालने पर मनाही। बहुत करीबी लोग ही जाएंगे कब्रिस्तान।
………………………
01:05PM: सपा नेता आजम खान ने कहा- जो लोग याकूब मेमन को सपोर्ट कर रहे हैं वो सोसाइटी को बांटना चाह रहे हैं।
………………………
12:55PM: याकूब का शव दफनाने से पहले माहिम के घर में मेमन फैमिली पढ़ेगी जनाजे की नमाज
………………………
12:47PM: एनसीपी ने कहा- ‘पीस लविंग इंडिया’ में डेथ पेनल्टी सही नहीं।
………………………
12:38PM: सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने कहा- फांसी पर लटकाना इंसाफ है तो राजीव गांधी के हत्यारों, गुजरात दंगों के दोेषियों को भी फांसी हो।
………………………
12:31PM: पुलिस ने याकूब का शव कब्रिस्तान तक ले जाते वक्त फोटोग्राफी पर बैन लगाते हुए सर्कुलर जारी किया है।
………………………
12:25PM: महाराष्ट्र के सीएम दो बजे विधानसभा में देंगे स्टेटमेंट।
………………………
12:10PM: फ्लाइट से मुंबई पहुंचा याकूब का शव। घर ले जा रही फैमिली।
………………………
11:35AM: कांग्रेस नेता शशि थरूर ने दी सफाई- मैंने किसी स्पेशल केस को लेकर ट्वीट नहीं किया। डेथ पेनल्टी पर सुप्रीम कोर्ट को फैसला करना था।
………………………
11:15AM: बसपा सुप्रीमो मायावती ने कहा- कल आखिर तक अदालत ने न्याय की प्रक्रिया का पूरा पालन किया। इसी तरह अन्य केस जो पेंडिंग हैं, उन पर भी फैसला होना चाहिए।
………………………
10:50AM: मुंबई पुलिस कमिश्नर राकेश मारिया पहुंचे माहिम। याकूब के घर के बाहर सिक्युरिटी अरेंजमेंट का जायजा लिया।
………………………
10:35AM: याकूब के शव को फैमिली IndiGo flight 544 से लेकर मुंबई आ रही है। 12.30 बजे एयरपोर्ट पहुंचेगी फ्लाइट।
………………………
10:25AM: मेमन के घर के बाहर बढ़ाई गई सुरक्षा, प्रिवेंटिव कस्टडी में लिए गए 300 लोग।
………………………
10:13AM: याकूब की आखिरी इच्छा पूरी की गई थी। फांसी से पहले जेल एडमिनिस्ट्रेशन ने बेटी से कराई थी बात।
………………………
10:05AM: महाराष्ट्र सरकार के एडिशनल होम सेक्रेटरी ने कहा- मुंबई में बढ़ा दी गई है सुरक्षा व्यवस्था। सेंट्रल गवर्नमेंट से बुलाई गई है एडिशनल फोर्स।
………………………
09:53AM: याकूब के शव को मुंबई ला रही है फैमिली। फैमिली के सात मेंबर्स में दो महिलाएं भी।
………………………
09:48AM: नागपुर एयरपोर्ट पहुंचा याकूब मेमन का शव।
………………………
09:42AM: जेल से निकाला गया याकूब मेमन का शव। शव एयरपोर्ट ले जा रही है फैमिली। इंडिगो की फ्लाइट से ले जाया जाएगा मुंबई।
………………………
09:40AM: बीजेपी प्रवक्ता एमजे अकबर ने थरूर के ट्वीट पर कहा- मुझे अफसोस है कि कुछ लोग ऐसी बातें करते हैं। हमारे देश में कानून है, सुप्रीम कोर्ट सबसे ऊपर है। आप सुप्रीम कोर्ट पर सवाल नहीं उठा सकते। फैसला सबके लिए हक का फैसला है। मुझे नहीं लगता कि जल्दीबाजी में लिया गया फैसला है। अगर 22 साल में फैसला होता है तो उसे आप जल्दी कैसे कह सकते हैं।
………………………
09:36AM: एनसीपी सांसद माजीद मेमन ने कहा- केंद्र और राज्य में बीजेपी की सरकार है। सरकार ने फांसी देने में जल्दीबाजी की। मर्सी पिटीशन खारिज करने से पहले प्रेसिडेंट को ज्यादा समय नहीं मिला, सरकार ने दबाव डाला। सुप्रीम कोर्ट ने जल्दीबाजी में फैसला किया। 21 साल जब रुके थे तो 21 दिन और रुकने में कयामत नहीं आ जाती।
………………………
09:30AM: होम सेक्रेटरी एलसी गोयल पहुंचे पार्लियामेंट। महाराष्ट्र सरकार याकूब की फांसी की देगी जानकारी।
………………………
09:23AM: नागपुर एयरपोर्ट पर भी बढ़ाई गई सिक्युरिटी, कुछ देर में जेल से पहुंचेगा याकूब का शव, एयर एंबुलेंस से ले जाया जाएगा मुंबई।
………………………
09:18AM: मुंबई के माहिम पुलिस स्टेशन में रैपिड एक्शन टीम को किया गया तैनात। किसी भी हालात से निपटने की तैयारी।
………………………
09:07AM: याकूब की फांसी पर कांग्रेस सांसद शशि थरूर का ट्वीट- सरकार ने एक इंसान को फांसी पर चढ़ा दिया, इससे मैं बेहद दुखी हूं। स्टेट स्पोन्सर्ड हत्याएं हमें नीचा दिखा रही हैं, जिसने हमें हत्यारों के लेवल पर ला दिया है।
………………………
09:02AM: नागपुर जेल में चल रही है याकूब की डेड बॉडी फैमिली को सौंपने की तैयारी। पूरी हो रही है कागजी कार्रवाई।
………………………
08:52AM: सपा नेता अबू आजमी ने कहा- याकूब की फांसी पर अफसोस है। याकूब खुद चल कर आया था, खुद सरेंडर किया था। रॉ अफसर बी रमण का ऑर्टिकल पढ़ने के बाद मुझे लगता है कि यह गलत हुआ। हमें सोचना होगा कि दाऊद और याकूब ने बम ब्लास्ट क्यों कराए? इसकी बात भी होनी चाहिए। सरकार तमाशा देखती रही। एक्शन या रिएक्शन दोनों ठीक नहीं है, लेकिन एक्शन पर आज तक सजा नहीं हुई और रिएक्शन पर फांसी हो गई।
………………………
08:48AM: कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह का ट्वीट- याकूब की फांसी पर सरकार, न्यायपालिका ने त्वरित कदम उठा कर मिसाल पेश की है। उम्मीद है कि सारे मामलों में जाति, धर्म से ऊपर उठ कर इसी तरह से फैसले होंगे। संदेह है, बाकी केसों में इतनी तेजी से काम होगा। सरकार और न्यायपालिका की साख दांव पर है।
………………………
08:42AM: महाराष्ट्र के एडिशनल होम सेक्रेटरी केपी बख्शी ने कहा- फैमिली ने शव की मांग की थी, जिसके बाद जेल सुपरिटेंडेंट ने फैसला लिया गया है कि शव फैमिली को दे दिया जाएगा। पूरे राज्य में पुलिस की सुरक्षा बढ़ा दी गई है। किसी प्रकार की कोई घटना नहीं घटने देंगे। लोग शांति बनाए रखें।
………………………
08:38AM: दोपहर एक बजे तक नागपुर से मुंबई एयरपोर्ट पहुंचेगा याकूब का शव।
………………………
08:12AM: 10.45 बजे नागपुर से मुंबई एयर एंबुलेंस से लाया जाएगा शव।
………………………
08:17AM: 10.30 बजे के करीब नागपुर जेल से निकाला जा सकती है याकूब की डेड बॉडी।
………………………
08:13AM: बॉडी लेने के लिए याकूब के दोनों भाई (सुलेमान और उस्मान) नागपुर की जेल पहुंचे हैं।
………………………
08:09AM: मुंबई की मरीन लाइन्स में स्थित चंदनवाड़ी कब्रिस्तान (बड़ा कब्रिस्तान) में याकूब के शव को दफनाया जाएगा।
………………………
08:00AM: एयर एंबुलेंस से याकूब की बॉडी मुंबई ले जाई जा सकती है।
………………………
07:48AM: कुछ देर में होटल से नागपुर जेल पहुंच सकते हैं याकूब के भाई, सौंपी जा सकती है डेड बॉडी।
………………………
07:41AM: पाकिस्तान टेरेरिज्म ऑपरेट करता रहा है। गिद्ध की तरह देश पर हमला किया गया, लोगों को बेरहमी से मारा गया। कुछ लोग उसे आखिरी तक बचाने की कोशिश कर रहे थे। उनके कहने से देश नहीं चलता। देश कानून से चलता है। उनके दिमाग को ठिकाने पर लाना चाहिए। ऐसे लोगों की वजह से कसाब घुसता है, मेमन पैदा होता है। अब यह नहीं चलेगा, ऐसे लोगों को सबक मिलेगा। – संजय रावत, शिवसेना के सीनियर लीडर
………………………
07:41AM: पुलिस मुंबई में एहतियातन 430 लोगों को हिरासत में ले चुकी है।
………………………
07:40AM: चंदनवाड़ी कब्रिस्तान में दफनाया जाएगा। यहीं याकूब के पिता को भी दफनाया गया था।
………………………
07:35AM: याकूब मेमन की बॉडी मुंबई के घर ले जा सकती है फैमिली। माहिम में है मेमन फैमिली का घर।
………………………
07:30AM: याकूब के पूर्व वकील श्याम केशवानी ने एक टीवी चैनल से कहा- हमारे मुल्क में गिद्ध जैसी मानसिकता वाले लोगों की जीत हुई।
………………………
07:28AM: टीवी रिपोर्ट्स के मुताबिक, फांसी यार्ड में मौजूद लोगों ने याकूब की फांसी के बाद दो मिनट तक मौन रखा।
………………………
07:22AM: जेल अधिकारियों ने किया कन्फर्म, 6.25 बजे नहीं 7 बजे दी गई फांसी। 7 बज कर 10 मिनट पर घोषित किया गया मृत।
………………………
07:18AM: विमान से मुंबई लाई जा सकती है बॉडी। एयरपोर्ट के रास्ते में बढ़ाई जा रही है सिक्युरिटी।
………………………
07:16AM: याकूब के भाई सुलेमान और उस्मान जेल एडमिनिस्ट्रेशन के संपर्क में हैं।
………………………
07:15AM: 8.15 बजे जेल एडमिनिस्ट्रेशन तय करेगा कि याकूब की बॉडी फैमिली को दी जाए या नहीं।
………………………
07:10AM: फैमिली को बॉडी सौंपी जा सकती है, लेकिन उससे पहले फैमिली से अंडरटेकिंग ली जाएगी। फैमिली जनाजा नहीं निकाल सकेगी।
………………………
07:05AM: टाडा कोर्ट में भेजा जाएगा डेथ सर्टिफिकेट, जज हमेशा के लिए बंद कर देंगे केस की फाइल। 1993 बम धमाकों के किसी दोषी को पहली फांसी।
………………………
07:01AM: याकूब को फंदे से उतारा गया। फांसी यार्ड में मौजूद डॉक्टर ने घोषित किया मृत।
………………………
06:55AM: याकूब को फांसी के वक्त जेल के फांसी यार्ड में 6 लोग मौजूद थे। डीआईजी और दो कॉन्स्टेबल भी मौजूद थे।
………………………
06:54AM: ज्यूडिशियल सिस्टम की खूबसूरती है, जितने भी प्रॉसेस हुए सब सही थे। अंतिम समय तक याकूब को भी बचने के सारे मौके मिले और अंत में सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुनाया, जिसके बाद उसे फांसी दी गई। – नलिन कोहली, बीजेपी के प्रवक्ता
………………………
06:45AM: एडीजी होम मिनिस्ट्री को देंगी जानकारी। 10.30 बजे महाराष्ट्र के सीएम देंगे बयान।
………………………
06:40AM: याकूब की लाश का होगा पोस्टमॉर्टम। चार डॉक्टर करीब 1 घंटा में करेंगे पोस्टमॉर्टम। जेल में ही होगा पोस्टमॉर्टम।
………………………
06:35AM: नागपुर जेल में याकूब को फांसी पर लटकाया गया। (टीवी रिपोर्ट्स)
………………………
06:25AM: याकूब की फैमिली नागपुर के होटल में पहुंच चुकी है।
………………………
06:15AM: याकूब को फांसी यार्ड तक ले जाया गया।
………………………
05:37 AM: याकूब ने सुबह की नमाज अदा की।
………………………
05:15 AM: याकूब के वकील आनंद ग्रोवर ने कहा- SC का फैसला गलत, मैं बहुत दुखी हूं।
………………………
05:10 AM: याकूब को नए कपड़े दिए गए।
………………………
05:05 AM: नागपुर में याकूब को फांसी देने की प्रॉसेस शुरू।
………………………
5.00AM: सुप्रीम कोर्ट ने वकीलों की दलीलें खारिज कर दी और फांसी को बरकरार रखा।
………………………
4.45AM: याकूब को अपना बचाव करने के लिए पूरा समय मिला है।
………………………
4.37AM: 2014 में ही याकूब की दया याचिका खारिज हो चुकी है।
………………………
4.35AM: जज दीपक मिश्रा ने कहा कि 13 जुलाई को ही याकूब के परिवार को जानकारी दे दी गई थी।
………………………
04.30AM: जस्टिस मिश्रा ने कहा कि याचिका में कोई नई बात नहीं है।
………………………
04.25AM: तीन जजों की लार्जर बेंच के हेड दीपक मिश्रा ने दिया फैसला।
………………………
04.15AM: जजों ने ऑर्डर का डिक्टेशन शुरू किया।
………………………
03:58 AM: अटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने सुप्रीम कोर्ट में शुरू की दलील।
………………………
03:56 AM: सुप्रीम कोर्ट में याकूब के वकील ग्रोवर की दलील खत्म।
………………………
03:42 AM: वकील ने कहा- याकूब को मिले 14 दिन का समय, जेल मैनुअल का दिया हवाला।
………………………
03:20 AM: जस्टिस दीपक मिश्रा, जस्टिस प्रफुल्ल चंद्र पंत और जस्टिस अमिताभ रॉय केस की सुनवाई कर रहे हैं।
………………………
03:15 AM: सुप्रीम कोर्ट में याकूब के वकीलों ने 6 दलीलें सुनाई।
………………………
03:00AM: सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई शुरू हुई।
………………………
2.00AM: भारत के इतिहास में पहली बार रात दो बजे सुप्रीम कोर्ट को खोला गया।
………………………
सुनवाई के लिए आधी रात को खुला सुप्रीम कोर्ट
देश के इतिहास में पहली बार सुप्रीम कोर्ट रात को खुला। याकूब की फांसी पर रोक लगाने की याचिका पर सुनवाई हुई। जस्टिस दीपक मिश्रा की अगुआई वाली बेंच ने इस पर सुनवाई करते हुए इसे खारिज कर दिया। मिश्रा ने कहा कि याकूब को अपने बचाव के पर्याप्त मौके दिए गए। (सुप्रीम कोर्ट के सभी अपडेट्स पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें) गुरुवार सुबह पांच बजे याचिका रद्द होते ही याकूब को फांसी देने की प्रॉसेस पूरी की गई। इससे पहले देर रात नागपुर पुलिस के जवान ने याकूब की फैमिली को कॉन्फिडेंशियल लेटर होटल में ले जाकर दिया।
फांसी के वक्त ये थे मौजूद
जेल में याकूब को फांसी देते समय कलेक्टर, जेल अधीक्षक, सीनियर जेलर, एसपी, जेल डीआईजी, एडीजी, मेडिकल अस्पताल के डीन व उनके दल समेत 20 उच्च स्तरीय अधिकारी मौजूद थे। फांसी यार्ड में 6 लोग थे। उस वक्त जेल के अंदर की सारी व्यवस्था विशेष कमांडो और क्यूआरटी के कंधों पर थी।
नागपुर जेल में हुई 30वीं फांसी
करीब 30 वर्ष बाद नागपुर की सेंट्रल जेल में किसी को फांसी दी गई। मुंबई बम धमाके का आरोपी याकूब मेमन देश में फांसी की सजा पाने वाला 57वां दोषी है। जेल की स्थापना वर्ष 1864 में हुई थी। इसमें फांसी की सजा पाने वाला सबसे पहला कैदी नंदाल था। 25 अगस्त, 1950 को उसे फांसी दी गई थी। उसके बाद 22 सितंबर 2950 को नारायण, 20 फरवरी 1951 सिपाराम, 26 जून 1951 सिताराम परव्या, 3 अगस्त 1951 को इमरान, 4 अक्टूबर 1951 भामय्या गोड़ा, 12 जनवरी 1952 को सरदार, 3 अगस्त 1952 में ही नियतो कान्हू, 5 अगस्त 1952 में अब्दुल रहमान, 2 सितंबर 1952 को गणपत सखाराम, 24 सितंबर 1952 सखाराम फाकसू, 19 मार्च 1953 में विन्सा हरी, 19 जून 1953 जागेश्वर मारोती, 4 जुलाई 1953 में प्रेमलाल, 15 सितंबर 1953 में लोटनवाला, 3 फरवरी 1956 में दयाराम बालाजी, 28 अगस्त 1959 में अब्बास खान वजिर खान, 15 फरवरी 1960 बाजीराव तवान्नों, 8 जुलाई 1970 में श्यामराव, 19 जनवरी 1973 में मोतीराम गोदान, और 5 जनवरी 1984 में आखिरी बार वानखेडे बंधुओं को फांसी दी गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *