मेहनतकश मजदूर ही राज्य और देश के भविष्य निर्माता : डॉ. रमन सिंह

Tatpar 18 Sep 2013

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आज यहां विश्वकर्मा पूजन के अवसर पर राज्य श्रम दिवस समारोह में छत्तीसगढ़ के एक लाख 10 हजार चरवाहों और 15 हजार कोटवारों को निःशुल्क सायकिल वितरण योजना की सौगात देकर प्रदेश के सभी मेहनतकश श्रमिकों को अपनी बधाई और शुभकामनाएं दी। योजना के तहत मुख्यमंत्री ने प्रतीक स्वरूप अनेक चरवाहों और कोटवारों को सायकिल के लिए चेक भेंट किया। योजना का संचालन श्रम विभाग से संबंधित छत्तीसगढ़ असंगठित कर्मकार राज्य सामाजिक सुरक्षा मण्डल द्वारा किया जा रहा है। समारोह का आयोजन श्रम विभाग, असंगठित कर्मकार राज्य सामाजिक सुरक्षा मण्डल और छत्तीसगढ़ भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण मण्डल तथा रायपुर जिला प्रशासन द्वारा शहीद स्मारक भवन में किया गया।
मुख्य अतिथि की आसंदी से समारोह में मुख्यमंत्री ने कहा कि छत्तीसगढ़ के लाखों मेहनतकश मजदूर ही वास्तव में राज्य और देश के भविष्य निर्माता हैं। उनकी मेहनत से ही छत्तीसगढ़ ने विकास के विभिन्न क्षेत्रों में नाम कमाया है। कृषि और श्रम मंत्री श्री चंद्रशेखर साहू की अध्यक्षता में आयोजित समारोह में स्कूल शिक्षा मंत्री श्री बृजमोहन अग्रवाल, छत्तीसगढ़ भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण मण्डल के अध्यक्ष श्री मोहन एन्टी, रायपुर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री सुनील सोनी, छत्तीसगढ़ अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष श्री दिलीप सिंह होरा, राज्य गौसेवा आयोग के सदस्य श्री रमेश यदु और श्री प्रेम सिंघानिया भी उपस्थित थे।
डॉ. रमन सिंह ने समारोह में प्रदेश के विभिन्न जिलों से बड़ी संख्या में आए चरवाहों और कोटवारों को सम्बोधित करते हुए कहा कि पूरे देश में छत्तीसगढ़ पहला राज्य है जिसने आप लोगों के लिए भी सायकिल वितरण की योजना शुरू की है।  चरवाहों के लिए सायकिल और कोटवारों को सायकल और टार्च प्रदान करने वाला छत्तीसगढ़ प्रथम राज्य है। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश की तरक्की में खेत खलिहानों से लेकर कारखानों और दफ्तरों तक काम करने वाले सभी मेहनतकशों का योगदान है। पत्थर तोड़ने वाले, सड़क और भवन बनाने वाले, गांवों में पशुधन की देखभाल करने वाले और गांवों की सुरक्षा के लिए कोटवारी का काम करने वालों को भी प्रदेश सरकार ने असंठित श्रमिक मानकर उनके लिए कल्याणकारी योजनाएं बनायी हैं।
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार बिना किसी भेदभाव के सभी वर्गों की बेहतरी के लिए काम कर रही है। हमारी योजनाएं सभी जाति, सभी वर्ग और सभी धर्मों के लोगों के लिए हैं। राज्य के सभी लोग हमारे अपने परिवार के हैं। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार की लोकप्रिय योजनाओं के तहत सायकिल और सिलाई मशीनों की इतनी ज्यादा मांग है कि कम्पनियां इसकी पूर्ति नहीं कर पा रही हैं। इसलिए राज्य सरकार द्वारा उन्हें इसके बदले नकद अनुदान देने का निर्णय लिया गया है। हितग्राही अब अपनी पसंद के अनुरूप खुले बाजार से सायकिल और सिलाई मशीन खरीद सकते हैं। उन्होंने बताया कि अच्छी गुणवत्ता के सिलाई मशीन के लिए 4,600 रुपए और सायकिल के लिए दो हजार 742 रूपए तथा टार्च के लिए 750 रुपए की अनुदान दी जा रही है। यह राशि उन्हें चेक के जरिए दी जाएगी। मुख्यमंत्री ने बताया कि अगले सप्ताह तक प्रदेश के सभी एक लाख 10 हजार चरवाहों और लगभग 15 हजार कोटवारों को राशि दी जाएगी।
राज्य सरकार द्वारा सभी जरूरतमंद लोगों के विकास के लिए योजनाएं बनाई गई हैं। उन्होंने कहा कि राज्य की 90 प्रतिशत आबादी को हम मुख्यमंत्री खाद्यान्न योजना का लाभ दे रहे हैं। योजना के अंतर्गत 42 लाख परिवारों को मात्र एक और दो रुपए में 35 किलो राशन मिल रहा है। उन्होंने कहा कि 56 लाख परिवारों को स्वास्थ्य सुविधा प्रदान करने के लिए स्मार्ट कार्ड दिए गए हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि श्रमवीरों के जन्म से लेकर उनके बच्चों की शिक्षा, विवाह सहित अन्य कार्यों के लिए सत्रह प्रकार की योजनाएं संचालित हैं। श्रम विभाग के अपर मुख्य सचिव श्री विवेक ढांड ने बताया कि राज्य में अब तक 11.30 लाख श्रमिकों का पंजीयन किया गया है। इनमें  6 लाख मजदूर असंगठित क्षेत्र से और 5 लाख 30 हजार मजदूर भवन निर्माण क्षेत्र से शामिल हैं। पिछले एक साल में इन्हें लगभग 165 करोड़ रुपए की सामग्री वितरीत की गई है। उन्होंने बताया कि राज्य सरकार द्वारा श्रमिकों को अब तक एक लाख 13 हजार सिलाई मशीन और 87 हजार सायकिल वितरित किए गए हैं।