मोजाम्बिक से दाल खरीदेगा भारत, ड्रग्स तस्करी रोकने पर भी डील

ई दिल्ली/मपूतो (मोजाम्बिक). चार अफ्रीकी देशों की विजिट पर निकले नरेंद्र मोदी गुरुवार सुबह मोजाम्बिक पहुंचे। इस दौरान तीन एग्रीमेंट किए गए। उनमें से एक दाल खरीदने का एग्रीमेंट है। इसके अलावा यूथ एंड स्पोर्ट्स और ड्रग्स तस्करी रोकने को लेकर भी एग्रीमेंट हुए। बाद में मोदी और मोजाम्बिक के राष्ट्रपति फिलिप न्यूसी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस को एड्रेस किया। 5 दिन के दौरे में पीएम साउथ अफ्रीका, तंजानिया और केन्या भी जाएंगे।
– प्रेस कॉन्फ्रेंस में मोदी ने कहा, ‘मोजाम्बिक के डेवलपमेंट में भारत पूरा साथ देगा। टेररिज्म से दोनों देश प्रभावित हैं। भारत-मोजाम्बिक मिलकर आतंकवाद के खात्मे के लिए लड़ेंगे।’
“मोजाम्बिक को भारत कई क्षेत्रों में सहयोग देगा। लेकिन एग्रीकल्चर, फूड सिक्युरिटी और हेल्थ सर्विसेस पर काफी जोर रहेगा।”
– “भारत और मोजाम्बिक दोनों आतंकवाद से काफी प्रभावित हैं। टेरर ग्रुप्स ट्रांस-नेशनल क्राइम से जुड़े होते हैं। दोनों साथ मिलकर टेररिज्म का मुकाबला करेंगे।”
– “ड्रग ट्रैफिकिंग को रोकने के लिए भी दोनों देश साथ मिलकर काम करेंगे।”
– “समंदर में भी हमारे सामने चुनौतियां है। दोनों देश सिक्युरिटी और डिफेंस सेक्टर की मजबूती के लिए काम करेंगे।”
– “क्लाइमेट चेंज पर काबू पाने के लिए मोजाम्बिक का इंटरनेशनल सोलर अलायंस में पार्टनरशिप करने पर हम स्वागत करते हैं।”
अगला पड़ाव साउथ अफ्रीका
– मोजाम्बिक के बाद मोदी 8 जुलाई को साउथ अफ्रीका पहुंचेंगे। दो दिन की साउथ अफ्रीका विजिट में उनका प्रेसिडेंट जैकब जुमा और अन्य पॉलिटिकल पार्टी के नेताओं के साथ मिलने का प्रोग्राम है।
– साउथ अफ्रीका के जोहानिसबर्ग में 8 जुलाई को मोदी इंडियन कम्युनिटी के लोगों को एड्रेस करेंगे। इस प्रोग्राम में करीब 10 हजार लोगों के मौजूद रहने की उम्मीद है।
– अपनी दो दिन की विजिट के दौरान मोदी डरबन से पीटरमेरित्जबर्ग के बीच ट्रेन का सफर भी करेंगे। पीटरमेरित्जबर्ग वह स्टेशन से हैं, जहां 1893 में महात्मा गांधी को ब्लैक इंडियन कह कर ट्रेन से बाहर फेंक दिया गया था।
तंजानिया
– 10 जुलाई को मोदी तंजानिया पहुंचेंगे। यहां प्रेसिडेंट जॉन पोंबे जोसेफ मागुफुली के साथ बाइलेटरल डिस्कशन करेंगे। इसमें कुछ एग्रीमेंट्स पर साइन होंगे।
– यहां मोदी सोलर एनर्जी के दिग्गजों के एक ग्रुप से मुलाकात करेंगे।
– मोदी जिन चार देशों की यात्रा पर जा रहे हैं वे देश भारत की अगुआई वाले इंटरनेशनल सोलर अलाइंस के मेंबर भी हैं।
– भारत देखना चाहता है कि सोलर एनर्जी के सेक्टर में इन देशों से किस तरह की मदद ली जा सकती है।
केन्या
– 11 जुलाई को मोदी केन्या की राजधानी नैरोबी पहुंचेंगे। इस पूर्वी अफ्रीकी देश में 35 साल में किसी भारतीय पीएम की यह पहली यात्रा होगी। इससे पहले 1981 में इंदिरा गांधी यहां आई थीं।
– मोदी नैरोबी यूनिवर्सिटी भी जाएंगे। यहां वो स्टूडेंट्स को एड्रेस करेंगे।
– चार अफ्रीकी देशों की यात्रा की दूसरी वजह भारत की मैरीटाइम सिक्युरिटी भी है। दरअसल भारत का ज्यादातर समुद्री व्यापार इन देशों की समुद्री सीमा से होता है।
अफ्रीका पर डी कंपनी की नजर
– माना जा रहा है कि मोदी की इस यात्रा के दौरान अफ्रीकी देशों में दाऊद इब्राहिम के बढ़ते व्यापार को रोकने पर भी चर्चा हो सकती है।
– खुफिया सूत्रों के मुताबिक, डी कंपनी अफ्रीका में अवैध तरीके से निकाले जाने वाले डायमंड के बिजनेस को बढ़ा रहा है।
– यह भी कहा जा रहा है कि एनआईए दाऊद के करीबी जावेद चिकना के अफ्रीका में बैठे सहयोगी जाहिद मियां को पकड़ना चाहती है।
– दरअसल भरूच जिले के पूर्व बीजेपी प्रेसिडेंट शिरीष बंगाली और जिले के भारतीय जनता युवा मोर्चा के जनरल सेक्रेटरी प्रग्नेश मिस्त्री की हत्या में चिकना और जाहिद मियां का नाम सामने आया है।
चीन को भी रोकना है
– अफ्रीकी देशों में पिछले कुछ दिनों से चीन का दबदबा बढ़ा है। इस लिहाजा से भी पीएम मोदी की यह विजिट खास मानी जा रही है।
– भारत की तरफ से मोदी की यह यात्रा तीसरी हाई लेवल विजिट होगी।
– पिछले छह महीनों में भारत से वाइस प्रेसिडेंट हामिद अंसारी और प्रेसिडेंट प्रणब मुखर्जी भी अफ्रीकी देशों की यात्रा पर जा चुके हैं।
30 अफ्रीकी देशों की जीडीपी से चीन का ट्रेड ज्यादा
– पिछले साल यहां चीन का व्यापार 200 अरब डॉलर रहा। यह अफ्रीका के 30 सबसे छोटे देशों की कुल जीडीपी से भी ज्यादा है।
– पिछले साल भारत का अफ्रीका से करीब 71.65 अरब डॉलर का ट्रेड हुआ था।