मोदी आज कजाकिस्तान जाएंगे, नवाज शरीफ से मुलाकात तय नहीं

नई दिल्ली. नरेंद्र मोदी गुरुवार को शंघाई कोऑपरेशन ऑर्गनाइजेशन (SCO) की मीटिंग में हिस्सा लेने कजाकिस्तान की राजधानी अस्ताना जाएंगे। ये मीटिंग 8-9 जून को होगी। भारत का मकसद पूरी तरह से SCO की मेंबरशिप हासिल करना होगा। मोदी, अस्ताना में चीन के प्रेसिडेंट शी जिनपिंग से भी मुलाकात करेंगे।
नवाज से मीटिंग का कोई शेड्यूल नहीं…
– न्यूज एजेंसी के मुताबिक, पाक पीएम नवाज शरीफ भी अस्ताना में मौजूद रहेंगे। लेकिन मोदी और नवाज की मीटिंग का कोई शेड्यूल फिक्स नहीं किया गया है।
– बताया जा रहा है कि समिट के दौरान पाकिस्तान भी SCO में मेंबरशिप पाने की कोशिशें करेगा।
– यूरेशिया डिवीजन के ज्वाइंट सेक्रेटरी जीवी श्रीनिवास के मुताबिक, “SCO के मौजूदा देशों के प्रमुखों से इस बात के संकेत मिले हैं कि भारत की मेंबरशिप पर इस समिट में मुहर लग सकती है।”
– श्रीनिवास की मानें तो SCO समिट में मोदी की कई नेताओं के साथ चर्चा हो सकती है। कजाकिस्तान से भी अहम बातचीत हो सकती है। कजाकिस्तान, भारत का सबसे बड़ा यूरेनियम का सप्लायर है। अस्ताना में भारत की तरफ से इकोनॉमी, कनेक्टिविटी, ट्रेड और टेररिज्म पर बात हो सकती है।
– मोदी, अस्ताना में वर्ल्ड एक्सपो 2017 में भी शिरकत करेंगे।
क्या बोले विदेश मंत्रालय के स्पोक्सपर्सन?
– गोपाल बागले के मुताबिक, “मोदी, जिनपिंग से मुलाकात कर सकते हैं। हम शेड्यूल पर वर्कआउट कर रहे हैं।”
– “जहां तक मोदी और नवाज की मीटिंग की बात है, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज पहले ही साफ कर चुकी हैं कि न तो उनकी तरफ से कोई रिक्वेस्ट आई है और न ही हमने कोई प्रपोजल भेजा है। इस स्थिति में कोई बदलाव नहीं होगा।”
– श्रीनिवास के मुताबिक, “SCO में 2005 से भारत ऑब्जर्वर की हैसियत से शामिल होता रहा है। हमने 2014 में इसकी फुल मेंबरशिप के लिए अप्लाई किया था।”
क्या है SCO?
– SCO के 6 मेंबर चीन, कजाकिस्तान, किर्गीस्तान, रूस, ताजिकिस्तान और उज्बेकिस्तान हैं। इसका हेडक्वार्टर बीजिंग में है।
– हाल ही में मोदी रूस समेत चार देशों के दौरे पर गए थे। प्रेसिडेंट व्लादिमीर पुतिन ने भारत की SCO में फुल मेंबरशिप को लेकर भरोसा दिया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *