मोदी आज देंगे इनॉगरल स्पीच, 21 साल में ऐसा करने वाले भारत के पहले प्रधानमंत्री

दावोस. वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम-2018 (WEF) की एनुअल मीटिंग स्विट्जरलैंड के रिजॉर्ट शहर दावोस में शुरू हो गई है। नरेंद्र मोदी सोमवार को दावोस पहुंच गए। वे मंगलवार को इनॉगरल सेशन को संबोधित करेंगे। मोदी फोरम में अब तक का सबसे बड़ा भारतीय दल ले गए हैं। इसमें 6 कैबिनेट मंत्री, 2 सीएम, 100 सीईओ समेत 130 लोग शामिल हैं। भारत की ओर से 21 साल बाद कोई प्रधानमंत्री इस फोरम में शामिल हो रहा है।

इस बार समिट में रिकॉर्ड महिलाएं

– इस बार समिट में पहली बार 21% रिप्रेजेंटेटिव महिलाएं हैं। यह रिकॉर्ड है। – पहली बार सभी को-चेयर महिलाएं हैं। इनमें भारत की आंत्रप्रेन्योर चेतना सिन्हा भी शामिल हैं।
– दावोस में यह 48वीं मीटिंग है। इसमें 70 देशों के राष्ट्राध्यक्षों समेत 3000 लोग शामिल हो रहे हैं। मीटिंग की थीम- ‘बंटी हुई दुनिया के लिए साझा भविष्य का निर्माण’ है।

– सोमवार को मोदी ने स्विट्जरलैंड के राष्ट्रपति एलेन बर्सेट के साथ बातचीत की। बता दें कि 1997 में एचडी देवेगौड़ा और 1994 में नरसिंह राव शामिल हुए थे।

समिट में 2000 कंपनियों के सीईओ हिस्सा ले रहे हैं

– दावोस-2018 में डब्ल्यूटीओ, विश्व बैंक, आईएमएफ समेत 38 संगठनों के हेड शामिल हो रहे हैं। 2,000 कंपनियों के सीईओ भी मौजूद हैं।
– मीटिंग में 400 सेशन होंगे। इसमें 70 देशों के प्रमुखों समेत 350 नेता हिस्सा लेंगे।
– दावोस में पहली बार योग सत्र का आयोजन हो रहा है। इसमें योग गुरु बाबा रामदेव के दो शिष्य योग सिखाएंगे।
– एक सेशन को आरबीआई के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन भी संबोधित करेंगे।
– पाक पीएम शाहिद खाकान अब्बासी, चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग भी हिस्सा लेंगे।

क्या है वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम?

– वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम की स्थापना 1971 में जेनेवा यूनिवर्सिटी के प्रो. क्लॉज एम श्वाब ने की थी।
– यह नॉन-गवर्नमेंटल ऑर्गनाइजेशन है, जो पब्लिक-प्राइवेट पार्टनरशिप के लिए व्यापार, राजनीति, शिक्षा, समाज से जुड़े लोगों की भागीदारी से दुनिया में सुधार के लिए कमिटेड है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *