मोदी की ताजपोशी 13 को! आडवाणी फिर नाराज

Tatpar 11 Sep 2013

नई दिल्ली। 2014 में होने जा रहे लोकसभा चुनावों में बीजेपी किसके नेतृत्व में चुनाव लडेगी, इस बात का फैसला इसी हफ्ते होने जा रहा है। सूत्रों की मानें तो बीजेपी 13 सितंबर को इस बात का ऎलान कर सकती है। बीजेपी की तरफ से नरेंद्र मोदी ही पीएम पद के उम्मीदवार होंगे। इस दिन पार्टी के संसदीय बोर्ड की बैठक होने वाली वाली है। जिसके बाद इस बात का ऎलान किया जाएगा। 13 सितंबर को शाम 4 बजे बीजेपी के संसदीय बोर्ड की बैठक होने जा रही है। इस बैठक के बाद नरेंद्र मोदी को पार्टी की तरफ से पीएम पद का कैंडिडेट बनाने का ऎलान किया जा सकता है। इससे पहले भी चर्चा थी कि लालकृष्ण आडवाणी और सुषमा स्वराज सहित कई अन्य नेताओं के विरोध के बावजूद भाजपा इस संबंध में 17 सितंबर से पहले कभी भी मोदी के नाम पर मुहर लगाई जा सकती है।

गौरलतब है कि 17 सितंबर को नरेंद्र मोदी का जन्मदिन भी है। हाल ही में बीजेपी और आरएसएस के बीच 2 दिनों तक बैठकों का दौर चला, जिसके बाद मोदी के नाम पर मुहर लगना लगभग तय हो गया था। इन बैठकों में यह बात उभरी थी कि मोदी के नाम से पीछे हटने का रिस्क उठाना बीजेपी के लिए महंगा साबित हो सकता है। ऎसे में पार्टी के पास मोदी के अलावा किसी और के नाम पर चर्चा करने का विकल्प नहीं बचा था। वहीं, 19 सितंबर से श्राद्ध पक्ष शुरू हो जाएगा। नवरात्र महोत्सव से पहले शुरू होने वाला श्राद्ध पक्ष 15 दिन तक चलेगा। इस दौरान कोई महत्वपूर्ण कार्य अशुभ माना जाता है। सूत्रों के मुताबिक पार्टी श्राद्ध पक्ष से पहले मोदी की उम्मीदवारी को लेकर घोषणा करेगी।

वहीं, अब माना जा रहा है 13 सितंबर को होने वाली संसदीय बोर्ड की बैठक के बाद मोदी के नाम का पीएम कैंडिडेट के नाम का ऎलान हो सकता है। बीजेपी में जो अभी तक नहीं हुआ वह पहली बार होगा। और बीजेपी की इस नई बिसात को बनाने वाले संघ परिवार के सामने कई बैठको में लालकृष्ण कह चुके हैं कि बीजेपी में जो अब हो रहा है वह पहली बार हो रहा है। लेकिन महत्वपूर्ण है कि संघ ने भी पहली बार कहा है कि मौजूदा वक्त में देश भी एक खास बदलाव देख रहा है और यह बदलाव बीजेपी को करना होगा। वहीं, बीजेपी में भीष्म पितामह की तर्ज पर मौजूद लालकृष्ण आडवाणी का करियर क्या 13 सितबंर के बाद खत्म हो जाएगा। यह सबसे बडा सवाल है, क्योंकि गुरू और गाईड की भूमिका में आने से लगातार इनकार करते आडवाणी को पहली बार मोदी के रूप में ऎसा आईना देखना पडेगा यह शायद उन्होंने कभी सोचा भी नहीं होगा।

वहीं, मंगलवार शाम से ही आडवाणी को मनाने का सिलसिला शुरू हो गया है। इसी कडी में नितिन गडकरी ने आडवाणी से मुलाकात की और तुरंत नागपुर के लिए रवाना हो गए। नितिन गडकरी आज सरसंघ चालक मोहन भागवत से मुलाकात करने वाले है। बताया जा रहा है 12 सितंबर को बीजेपी अध्यक्ष राजनाथ सिंह उनके घर जाकर आडवाणी से मुलाकात करेंगे और गिले शिकवे दूर करने की गुहार लगाएंगे। राजनाथ सिंह 12 सितबंर को आडवाणी के अलावा मुरली मनमोहर जोशी, सुषमा स्वराज से भी मिलेंगे।