मोदी-नेतन्याहू आज गुजरात में: दोनों लीडर 8km ke रोड शो करेंगे, पानी साफ करने वाली वैन भी देंगे

अहमदाबाद. बेंजामिन नेतन्याहू और उनकी पत्नी सारा बुधवार को गुजरात जाएंगे। उन्हें यहां नरेंद्र मोदी रिसीव करेंगे। दोनों लीडर 8 किमी का रोड शो करेंगे और साबरमती आश्रम जाएंगे। दोनों पीएम यहां अहमदाबाद के देव ढोलेरा गांव में iCreate सेंटर का इनॉगरेशन करेंगे। यहां वे दोनों वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बनासकांठा के सुईगाम तालुका को मोबाइल वॉटर डिजलाइनेशन वैन भी देंगे। बता दें कि नेतन्याहू 6 दिन के दौरे पर भारत आए हैं। भारत और इजरायल के बीच डिफेंस-पेट्रोलियम समेत 9 करार हो चुके हैं।

केवल ताकतवर लोग ही जिंदा रहते हैं

– मंगलवार को रायसीना डायलॉग के थर्ड एडिशन के इनॉगरेशन के मौके पर इजरायल के पीएम बेंजामिन नेतन्याहू ने सैन्य ताकत बढ़ाने पर जोर दिया।

– नेतन्याहू ने कहा, “यहूदी इतिहास से हमें जो सबसे बड़ा सबक मिला है, वो ये है कि केवल ताकतवर ही जिंदा रहते हैं, कमजोर लोग नहीं। ताकतवर होने पर ही आप शांति स्थापित करने में सफल हो सकते हैं।”

इजारयल के पीएम ने और क्या कहा, 5 प्वाइंट

1) सबसे ज्यादा जरूरी है ताकत
– बेंजामिन नेतन्याहू ने कहा, “अंतरराष्ट्रीय स्तर पर आज आपको जिस चीज की सबसे ज्यादा जरूरत है, वो है ताकत। ये सैन्य और आर्थिक दोनों पहलुओं में होनी चाहिए और इसे शिक्षा और राजनीतिक शक्ति का समर्थन मिलना चाहिए।”

2) इजरायल की पहली जरूरत ताकत
– उन्होंने कहा, “आप मजबूत शख्स के साथ हाथ मिलाइए.. आप ताकतवर होकर ही शांति स्थापित कर सकते हैं। राष्ट्र के तौर पर इजरायल की जो सबसे पहली जरूरत है, वो है ताकत।”

3) भारत-इजरायल के रिश्ते बेमिसाल
– “भारत और इजरायल के रिश्ते बेमिसाल हैं और ये आगे लोकतंत्र की भावना को और ज्यादा मजबूत करेंगे। लोकतंत्र की साझेदारी भविष्य को सुरक्षित करने के लिए बेहद जरूरी है।”

4) 3000 साल में इजरायल आने वाले मोदी पहले भारतीय नेता
– नेतन्याहू बोले, “आपकी (मोदी) इजरायल की विजिट धमाकेदार थी। आप 3000 साल में इजरायल आने वाले पहले भारतीय लीडर थे। मुझे पता है कि आपको (मोदी) इजरायल आने में ज्यादा वक्त नहीं लगेगा। मैं ये भी बताना चाहता हूं कि हम भारत में उसी तरह विश्वास करते हैं, जैसा कि भारत इजरायल में करता है।”

5) भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र
– “भारत दुनिया का सबसे बड़ी आबादी वाला लोकतंत्र है। ये वो जगह है, जो दिखाती है कि इंसानियत को स्वतंत्रता के साथ चलाया जा सकता है, हम लोगों के अधिकारों को सुरक्षित कर सकते हैं, उनकी सोचने, बोलने, विश्वास करने और जो भी हम चाहते हैं उसकी रक्षा कर सकते हैं। ऐसे लोकतंत्र जो विविध हैं, अलग हैं और आजाद हैं और यही भारत और इजरायल हैं।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *