मोदी ने लॉन्च किया स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट, बोले- ये बहुत बड़ा आंदोलन है

पुणे.पीएम नरेंद्र मोदी ने शनिवार को यहां स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट्स को लॉन्च किया। उन्होंने कहा कि यह काम यह एक बहुत बड़ा आंदोलन है। यह एक सार्थक कोशिश है। मैं एक्सपीरियंस कर रहा हूं कि यह काम सफल रहा है। बता दें कि ‘स्मार्ट सिटी चैलेंज कॉम्पिटीशन’ के पहले फेज के लिए चुने गए 20 शहरों में ये प्रोजेक्ट्स शुरू हो जाएंगे। इनमें 48 हजार करोड़ का इन्वेस्टमेंट होगा।
– पीएम ने पुणे में शनिवार को कहा- ” हमारे देश में ऐसा तो नहीं है कि पहले कोई काम नहीं होता था। ऐसा भी नहीं है कि सरकारें बजट खर्च नहीं करती थीं।”
– ” इसके बावजूद भी दुनिया के कई देश हमारे बाद आजाद हुए। बहुत ही कंगाल और आर्थिक बदहाली से बाहर आए।”
– ” क्या वजह है कि कम समय में दुनिया के कई देश हमसे आगे निकल गए।”
– “अगर एक बार देश के सवा सौ करोड़ लोग अपनी ताकत को झोंक दें तो किसी भी सकार की जरूरत नहीं होगी।”
वैंकेया ने कहा- MODI का मतलब मेकिंग आॅफ डेवलपिंग इंडिया
– अरबन डेवलपमेंट मिनिस्टर वैंकेया नायडू ने कहा- ” MODI का मतलब मेकिंग आॅफ डेवलपिंग इंडिया है।”
– ” देश की कई बेहतरीन योजनाओं की शुरुआत पुणे से हुई है। इसलिए हमने इसके लिए पुणे को सिलेक्ट किया। ”
– ” तिलक के स्वराज से लेकर, तुकाराम महात्मा फुले तक कई आंदोलन यहीं से हुए।”
– ” यह अरबन डेवलेपमेंट का एेतिहासिक दिन है। यह प्रोजेक्ट भी यहां से शुरू हो रहा है।”
मोदी ने किया मेक योर सिटी कॉन्स्टेंट लॉन्च
– इस मौके पर मोदी ने मेक योर सिटी कॉन्स्टेंट लॉन्च किया। यहां स्मार्ट सिटी पर बनी शार्ट फिल्म दिखाई।
– इसका शहर के 40 स्पॉट्स पर लाइव टेलिकास्ट का अरेंजमेंट किया गया है।
– मोदी ने स्मार्ट नेट पोर्टल भी लॉन्च किया।
– प्रोग्राम में अर्बन डेवलपमेंट मिनिस्टर एम. वैंकेया नायडू, महाराष्ट्र के गवर्नर विद्यासागर राव और सीएम देवेंद्र फड़णवीस भी मौजूद हैं।
क्या है ‘मेक योर सिटी स्मार्ट’ कॉम्पिटीशन?
– ‘मेक योर सिटी स्मार्ट’ का मकसद सड़कों, जंक्शन और पार्कों की डिजाइन तय करने में नागरिकों को शामिल करना है।
– आम लोगों की सुझाई गई डिजाइन उनकी स्मार्ट सिटी में शामिल की जाएंगी।
– कॉम्पिटीशन जीतने वालों को 10,000 से 1,00,000 रुपए तक के अवॉर्ड दिए जाएंगे।
इन फैसिलिटीज से लैस होंगी स्मार्ट सिटी
– वर्ल्‍ड क्‍लास ट्रांसपोर्ट सिस्टम।
– 24 घंटे बिजली-पानी की सप्लाई।
– सरकारी कामों के लिए सिंगल विंडो सिस्टम।
– एक जगह से दूसरे जगह तक 45 मिनट में जाने की व्यवस्था।
– स्मार्ट एजुकेशन।
– एनवायरन्मेंट फ्रेंडली।
– बेहतर सिक्युरिटी और एंटरटेनमेंट की फैसिलिटीज।
बजट में हुआ था एलान
– स्मार्ट सिटी बनाने के लिए सबसे पहले मोदी सरकार के पहले बजट में घोषणा की गई थी।
– बजट में 7060 करोड़ रुपए का फंड भी अलॉट किया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *