मोदी बोले- भारत पर लोगों का भरोसा बढ़ा

कुआलालंपुर: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शनिवार को तीन दिन की मलेशिया विजिट पर राजधानी कुआलालंपुर पहुंचे। यहां 13वें आसियान-इंडिया समिट में शिरकत करते हुए मोदी ने कहा कि 21 वीं सदी एशिया की होगी। समिट में अपनी स्पीच के दौरान मोदी ने यह भी कहा कि आईएमएफ और वर्ल्ड बैंक जैसे फाइनेंशियल ऑर्गनाइजेशन ने भारत में भरोसा जताया है। अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा भी इस समिट में शामिल होने वाले हैं। समिट से पहले मोदी ने चीन के पीएम से भी मुलाकात की।
मोदी की स्पीच: 10 खास बातें
> टैक्स ढांचे में भारत विश्वसनीयता ला रहा है। मूडीज एजेंसी ने भारत की रेटिंग बढ़ाई है।
> एफडीआई में 40% की बढ़ोतरी की। पीपीपी मॉडल के समर्थन में है भारत। हम अपने देश को मैन्युफैक्चरिंग हब बनाएंगे।
> भारत सरकार टैक्स फ्री इन्फ्रास्ट्रक्चर बॉन्ड लाएगी। इन्श्योरेंस, डिफेंस और रेल में एफडीआई ला रहे हैं।
> रोजगार मुहैया कराने पर फोकस। मेक इन इंडिया की मुहिम शुरू की। स्टार्टअप इंडिया की मुहिम भी शुरू हो चुकी है।
> गांवों और शहरों में पांच करोड़ मकान बनाने का टारगेट। आसियान देशों की टूरिज्म का खास रोल। उभरती इकोनॉमी में भारत बस सबसे अहम।
> किसानों को स्वायल हेल्थ कार्ड जारी किए। हर रोज देश में 23 किमी. सड़क बनाई जा रही है। भारत का हर राज्य अब दुनिया से जुड़ गया है।
> रिफॉर्म से हमने ट्रांसफॉर्म किया है। एफडीआई और कारोबार के नियम आसान किए।
> आईएमएफ और वर्ल्ड बैंक भारत में भरोसा जताया है।
> 18 महीने में अर्थव्यवस्था बेहतर हुई है। 18 महीने में अर्थव्यवस्था में सुधार हुआ है।
> भारत-आसियान स्वभाविक साझेदार। आसियान देश मिलकर बड़ा पावर हाउस बना सकते हैं।
समिट पर आतंकी हमले का खतरा
दूसरी ओर, कुआलालंपुर पुलिस ने समिट के दौरान सुसाइड अटैक की आशंका जताते हुए हाई अलर्ट जारी किया है। कुआलालंपुर में मलेशिया आर्मी के दो हजार जवान तैनात किए गए हैं जबकि ढाई हजार सैनिकों को स्टैंडबाय रखा गया है। कुआलालंपुर के पुलिस कमिश्नर ने कहा है कि शहर में 10 से 12 सुसाइड बॉम्बर मौजूद हो सकते हैं।
आज और क्या होगा?
पीएम आसियान-इंडिया समिट के बाद कल 10वें ईस्ट एशिया समिट में शामिल होंगे। भारत 10 साल पहले यहां बने समूह का फाउंडर मेंबर है। इसके साथ ही वे मलेशिया के प्रधानमंत्री नजीब रजाक और समिट में आए कुछ अन्य नेताओं से भी बात करेंगे। पीएम मलेशिया के बाद सिंगापुर भी जाएंगे।
एक्ट ईस्ट पर होगा जोर
पीएम के इस दौरे में एक्ट ईस्ट पर जोर होगा। दौरे पर रवाना होने पहले मोदी ने भी इस बात को माना। उन्होंने कहा है, “मलेशिया उनकी सरकार की ‘एक्ट ईस्ट नीति’ के केंद्र में है। हम बिजनेस और इकोनॉमिक रिलेशनशिप को और बढ़ाना चाहते हैं।”
उठ सकता है आतंकवाद का मुद्दा
ईस्ट एशिया समिट में पेरिस हमले के बाद की हालात का असर पड़ सकता है। इस समिट में आतंकवाद मुख्य मुद्दा हो सकता है। पेरिस हमलों के बाद सभी देश इस समस्या से छुटकारे की कोशिशें तेज कर सकते हैं। दक्षिण चीन सागर विवाद पर भी बातचीत हो सकती है।
भारतीय समुदाय को करेंगे संबोधित
मोदी रामकृष्ण आश्रम जाएंगे। इसके अलावा स्वामी विवेकानंद की प्रतिमा का अनावरण करेंगे। भारतीय समुदाय के लोगों को भी संबोधित करेंगे। मलेशिया में 20 लाख से अधिक भारतीय रहते हैं।
सिंगापुर: मोदी के कार्यक्रम में शामिल होने के लिए लेनी होगी इजाजत
सिंगापुर में भारतीय मूल के स्‍थानीय निवासियों ने मोदी के स्वागत में कार्यक्रम रखा है। लेकिन सिंगापुर सरकार ने कार्यक्रम में उमड़ने वाली भीड़ काबू करने के फरमान जारी किए हैं। 24 नवंबर को कार्यक्रम में शामिल होने वाले लोगों को प्रशासन से इजाजत लेनी होगी। वह राष्ट्रपति टोनी टान केंग याम, प्रधानमंत्री ली सिएन लूंग से मुलाकात करेंगे।