मोदी सरकार की 4 साल की उपलब्धियों का लेखा-जोखा

केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने पेश किया मोदी सरकार की 4 साल की उपलब्धियों का ब्यौरा, कहा रेलवे को और सक्षम और भरोसेमंद बनाना है सरकार की प्राथमिकता, रेलवे के निजीकरण की खबरों को बताया बेबुनियाद। स्वास्थ्य मंत्री जे पी नड्डा ने कहा साल 2022 तक खोले जाएंगे 1.5 लाख हेल्थ एंड वेलनेस केंद्र।

मोदी सरकार के चार साल पूरे होने पर विभिन मंत्री चार साल में सरकार के कामों का ब्यौरा जनता को दे रहे हैं। इसी कड़ी में रेल मंत्री पियूष गोयल और स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा ने अपने मंत्रालयों के कामों और उपलब्धियों की जानकारी जनता को दी। सुरक्षा को रेलवे के लिए प्राथमिकता बताते हए गोयल ने कहा कि रेलवे के विकास और आधुनिकीकरण के लिए बड़े पैमाने पर निवेश किया गया है। उन्होंने बताया कि एक लाख करोड़ रूपये की लागत से राष्ट्रीय रेल सुरक्षा कोष बनाया गया है, ताकि सुरक्षा संबंधी कार्यों के लिए और अधिक धनराशि उपलब्ध कराई जा सके। एक सवाल के जवाब में उन्होंने रेलवे के निजीकरण के सभी अटकलों को भी ख़ारिज कर दिया।

वहीं केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जे पी नड्डा ने आयुष्मान भारत योजना का जिक्र करते हुए कहा कि इससे पचास करोड़ लोग सीधे हेल्थ इंश्योरेंस के दायरे में आएँगे…साल  2022 तक हर एक पंचायत पर एक हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर होगा और ड़ेढ़ लाख हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर खुलेंगे।  उन्होंने कहा कि देश में मातृमृत्यु दर में सैतीस प्वाइंट की कमी दर्ज की गई है । प्रधानमंत्री डायलिसिस योजना से 2 लाख 38 हज़ार मरीज़ों लाभ हुआ है।  देश में एक सौ चौतीस अमृत स्टोर खुले है जहां जीवनरक्षक दवाएं करीब साठ से नब्बे फीसद तक सस्ती मिलती है  । मिशन इंद्रधनुष के तक तहत अब तक तीन करोड़ नवजात और अस्सी लाख से अधिक गर्भवती महिलाओं का टीकाकरण हुआ है।

केंद्र में नरेंद्र मोदी की सरकार के चार साल पूरा होने के मौके पर केंद्र के मंत्री संवाददाता सम्मेलनों के जरिए सरकार की उपलब्धियां जनता के सामने रख रहे हैं।  इसी कड़ी में  सोमवार को मीडिया से मुखातिब हुए केंद्रीय रेल एवं कोयला मंत्री पियूष गोयल। उन्होंने दोनों मंत्रालयों की उपलब्ध्यों का बारी-बारी से ज़िक्र किया। रेल मंत्रालय की तमाम उपलब्धियों को बताते हुए उन्होंने कहा कि सबसे बड़ा बदलाव ये है कि पिछले 4 साल में सोचने का तरीक़ा बदला है और सुरक्षा सबसे ऊपर है। एक सवाल के जवाब में उन्होंने रेलवे के निजीकरण के सभी अटकलों को ख़ारिज कर दिया।

रेल और कोयला मंत्रालयों के बीच बेहतर समन्वय की अहमियत को बताते हुए पियूष गोयल ने कहा कि इससे परियोजनाओं को समय से पूरा करना संभव हो गया है। देश में सभी के लिए 24 घंटे किफायती बिजली के लक्ष्य को हासिल करने के लिए पिछले 4 साल में कोयला उत्पादन में ज़बरदस्त वृद्धि का उन्होंने ख़ास तौर पर ज़िक्र किया।

वहीं केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जे पी नड्डा ने मोदी सरकार के 4 साल पूरा होने पर स्वास्थ्य मंत्रालय की  उपलब्धियां गिनाते कहा कि चार साल में उनके मंत्रालय  के उठाए गए कदम स्वास्थ्य के क्षेत्र में क्रांतिकारी बदलाव ला रहे हैं ।  स्वास्थ्य मंत्री ने आयुष्मान भारत का जिक्र करते हुए कहा कि इससे पचास करोड़ लोग सीधे हेल्थ इंश्योरेंस के दायरे में आएँगे। 2022 तक हर एक पंचायत पर एक हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर होगा और 2022 तक ड़ेढ़ लाख हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर खुलेंगे।

उन्होंने कहा कि देश में मातृमृत्यु दर में सैतीस प्वाइंट की कमी दर्ज की गई है । प्रधानमंत्री डायलिसिस योजना से 2 लाख 38 हज़ार मरीज़ों लाभ हुआ है।  देश में एक सौ चौतीस अमृत स्टोर खुले है जहां जीवनरक्षक दवाएं करीब साठ से नब्बे फीसद तक सस्ती मिलती है  । मिशन इंद्रधनुष के तक तहत अब तक तीन करोड़ नवजात और अस्सी लाख से अधिक गर्भवती महिलाओं का टीकाकरण हुआ है।

गौरतलब है कि चार साल पहले 26 मई 2014 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में सरकार बनने के साथ ही एक ही लक्ष्य रखा गया और और वो विकास का था। तब से सरकार सबका साथ सबका विकास के लक्ष्य के साथ तेजी से काम कर रही है । चार साल के मौके पर इसी विकास के कामों को जनता तक पहुंचाने के लिए सरकार के मंत्री प्रेस कांफ्रेस कर रहे हैं ।