मोदी से मिले सचिन, 10 हजार घंटे की फुटेज से बनी अपनी फिल्म पर की चर्चा

नई दिल्ली. सचिन तेंडुलकर ने शुक्रवार को नरेंद्र मोदी से मुलाकात की। सचिन ने पीएम से अपनी आने वाली फिल्म ‘सचिन: ए बिलियन ड्रीम्स’ को लेकर चर्चा की। बता दें कि हाल ही में एक्टर अक्षय कुमार ने भी अपनी फिल्म ‘टॉयलेट: एक प्रेमकथा’ को लेकर मोदी से मुलाकात की थी।
26 मई को रिलीज होगी…
– रवि भागचंदका के प्रोडक्शन हाउस ‘200 नॉट आउट प्रोडक्शन्स’ के तहत बनी है डॉक्युफीचर फिल्म- सचिन: ए बिलियन ड्रीम्स। फिल्म के डायरेक्टर हैं जेम्स अर्स्किन।
– इस मूवी को बनाने के लिए साढ़े तीन साल तक लगातार कैमरे से हर जगह सचिन को फॉलो किया गया। इस दौरान 10 हजार घंटे के वीडियो फुटेज खंगाले गए। मूवी 26 मई को रिलीज होगी।
2014 में आई सचिन की ऑटोबायोग्राफी
– 2014 में आई उनकी ऑटोबायोग्राफी (प्लेइंग इट माय वे) से पर्सनल लाइफ की कई बातें पहली बार सामने आई थीं।
– बुक के मुताबिक, जब सचिन 9 साल के थे, उन्होंने फ्रेंड्स के साथ बाहर चाइनीड फूड खाने का प्लान बनाया। सभी ने 10-10 रुपए चंदा किया। होटल में स्टारटर के तौर पर सूप और चिकन ऑर्डर किया गया। यहां सचिन सबसे लास्ट में बैठे थे और उनतक सूप पहुंचते-पहुंचते खत्म हो चुका था। ग्रुप के बड़े लड़कों ने फ्राइड राइस और चाऊमीन के साथ भी ऐसा ही किया। सचिन को मुश्किल से ये दोनों चीजें 2 चम्मच ही खाने को मिली थीं और वो भूखे ही घर लौट आए थे।
– सचिन ने पहली बार तंदूरी चिकन 10 साल की उम्र में खाई थी। तब वो सबसे बड़े भाई नितिन के साथ एक फ्लाइट का इंतजार कर रहे थे। फ्लाइट लेट होने पर उन्होंने डिनर किया। पहली बार खाने पर ही चिकन तंदूरी सचिन की फेवरेट डिश बन गई थी।
– सचिन के सभी दोस्तों के पास साइकिल थी। उन्होंने भी पेरेंट्स से इसके लिए जिद की और कहा कि जब तक उनकी नई साइकिल नहीं आएगी वो नीचे खेलने नहीं जाएंगे। करीब 1 हफ्ते तक सचिन गुस्से में घर पर ही बंद रहे और बालकनी (ग्रिल लगी हुई) से नीचे झांकते थे। एक बार सचिन ने ग्रिल में सिर फंसा लिया था। करीब आधे घंटे की मशक्कत के बाद वो निकल सके थे। इस घटना से घबराए उनके पिता ने तुरंत साइकिल ला दी थी।
फिल्म केप्रोड्यूसर रवि भागचंदका ने बताया- सचिन को इसके लिए राजी करना आसान था?
रवि भागचंदका ने बताया- “2012 में हमने पहली बार बात की। 6 से 8 महीने तो उनसे मुलाकात करने में लग गए। इसके बाद उन्हें मनाने में समय लगा। सचिन कहते रहे, “मैं एक स्पोर्ट्समैन हूं, मैं एक्टिंग नहीं कर सकता।” हमने कहा, “हम नहीं चाहते कि आप एक्टिंग करें। हम कुछ वक्त आपको फॉलो करेंगे और कुछ खास मोमेंट्स शूट करेंगे, लेकिन यह साफ है कि एक्टिंग नहीं होगी। आप जिस सिचुएशन में जैसे होंगे, हमें वैसे ही कैमरे में लेना है।” इसके बाद साढ़े तीन साल तक हमने कैमरे के साथ उनको हर जगह फॉलो किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *