याकूब के जनाजे में जुटी भीड़ की वजह अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम

मुंबई: 1993 के मुंबई धमाकों के दोषी याकूब मेमन की फांसी के बाद उसके जनाजे में काफी भीड़ जुटी थी। एक अंग्रेजी अखबार ने मुंबई पुलिस के सूत्रों के हवाले से दावा किया है कि अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम के प्रभाव की वजह से इतनी ज्यादा भीड़ जुटी। मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया गया था कि याकूब मेमन के माहिम में निकले जनाजे में दस से पंद्रह हजार लोग आए थे। इतनी ही भीड़ उसे मरीन लाइन्स स्थित कब्रगाह में दफनाने के दौरान मौजूद थी।
खबर के मुताबिक, दाऊद ने शहर के अपने वफादारों को फोन करवाया और उन्हें ज्यादा से ज्यादा तादाद में याकूब मेमन के जनाजे में मौजूद रहने के लिए कहा। एक सीनियर पुलिस अफसर ने नाम पब्लिक न किए जाने की शर्त पर कहा, ”हमें इस बात की जानकारी मिली है कि दाऊद और उसके गुर्गे छोटा शकील ने शहर में कई लोगों को फोन करके आदेश दिया कि वे जनाजे में मौजूद होकर एकजुटता दिखाएं।”

 

इसलिए शुरुआत में चुप थे दाऊद और शकील
सूत्रों का यह भी कहना है कि शुरुआत में दाऊद और शकील को उम्मीद थी कि सुप्रीम कोर्ट याकूब के पक्ष में फैसला देगा। उन्हें डर था कि उनकी तरफ से दी गई किसी प्रतिक्रिया का याकूब की याचिका पर असर पड़ सकता है। इसी वजह से जैसे ही याकूब को फांसी हुई, शकील ने टीवी इंटरव्यू दिया और अंजाम भुगतने की चेतावनी दी। पुलिस के मुताबिक, शकील की यह धमकी इस बात को पुख्ता करती है कि 1993 के धमाकों में उसका ही हाथ था।