रामविलास ने छोड़ा कांग्रेस का साथ, पीछे पड़ी सीबीआई!

Tatpar 26 feb 2014

नई दिल्ली। यूपीए का साथ छोड़ने की अटकलों के साथ ही लोजपा प्रमुख रामविलास पासवान की मुश्किलें बढ़ गई है। कहा जा रहा है कि कांग्रेस पार्टी ने रामविलास के खिलाफ अपने हथियार का इस्तेमाल किया है। इतने दिनों तक चुप बैठी सीबीआई अब रामविलास के पीछे पड़ गई है।

कसभा चुनाव से ठीक पहले पासवान की मुश्किलें बढ़ती दिख रही हैं। कहा जा रहा है कि बोकारो स्टील प्लांट में हुए भर्ती घोटाले मामले में सीबीआई जल्द ही उनसे पूछताछ कर सकती है। इस मामले में सीबीआई ने कई महत्वपूर्ण दस्तावेज बरामद किए हैं।

 

भर्ती घोटाले के समय इस्पात मंत्री रहे रामविलास पासवान के दफ्तर से नौकरी पाने वाले उम्मीदवारों के लिए जारी की गई सिफारिशी चिट्ठी भी शामिल हैं। सीबीआइ की एफआईआर में इस मामले में कई बड़ी हस्तियों के नाम भी दर्ज हैं। इसमें झारखंड के पूर्व गवर्नर सैयद सिब्ते रजी के बेटे एस.एम.रजी, भाजपा नेता और पूर्व मंत्री सत्यनारायण जटिया के बेटे राजकुमार जटिया और रांची हाई कोर्ट के पूर्व जज डी.जी.आर पटनायक के बेटे योगेश चंद्र पटनायक के भी नाम शामिल हैं।

इस साल 28 जनवरी को सीबीआई ने इस मामले में देश भर में करीब 28 स्थानों पर छापे मारे थे। छापेमारी के दौरान कई अहम दस्तावेज मिले। गौरतलब है कि बोकारो स्टील प्लांट में रामविलास पासवान के मंत्री रहते कर्मचारियों की भर्तियों के दौरान कई तरह की अनियमितता के आरोप लगे थे।