राष्ट्रपति चुनाव, हिंदू राष्ट्र का सपना पूरा करने भागवत से बेहतर कोई उम्मीदवार नहीं

मुंबई.केंद्र और महाराष्ट्र में बीजेपी की सहयोगी शिवसेना ने राष्ट्रपति चुनाव को लेकर बड़ा बयान दिया है। गुरुवार को शिवसेना ने कहा कि वह राष्ट्रपति चुनाव में एनडीए से अलग रुख अपना सकती है।
शिव सेना प्रवक्ता संजय राउत ने कहा, ‘हम राष्ट्रपति चुनाव में अलग रुख अपना सकते हैं। हमारे पास समय है और हिंदू राष्ट्र के सपने को पूरा करने के लिए मोहन भागवत से बेहतर कोई उम्मीदवार नहीं है। वह अंत तक भागवत के नाम की सिफारिश करते रहेंगे।’
– राष्ट्रपति चुनाव के हिसाब से सेना के पास 18 सांसद और 63 विधायकों के महत्वपूर्ण वोट हैं। यह पहली बार नहीं है जब शिव सेना ने एनडीए के लिए असहज स्थिति पैदा की है। इससे पहले 2012 में इसने राष्ट्रपति चुनाव में यूपीए के प्रणब मुखर्जी को समर्थन दिया था, जबकि एनडीए के उम्मीदवार पीए संगमा थे।
-इसके अलावा 2007 के राष्ट्रपति चुनाव में भी एनडीए के भैरों सिंह शेखावत के खिलाफ जाते हुए यूपीए की प्रतिभा पाटिल के पक्ष में वोट दिया था। उद्धव ठाकरे अप्रैल में प्रधानमंत्री मोदी से मिले थे, तो उन्हें बड़ा भाई बताया था।
इसके बावजूद दोनों पार्टियों के बीच तल्खी पूरी तरह से खत्म नहीं हुई है। वहीं महाराष्ट्र के किसान आंदोलन पर भी कड़ा रुख अपनाते हुए सेना ने कहा कि अगर बीजेपी सरकार किसानों की समस्या को खत्म नहीं कर सकती, तो इस्तीफा दे देना चाहिए।
राउत ने कहा, ‘किसानों के मुद्दे पर सेना और सरकार के बीच कई मतभेद हैं। अगर बीजेपी किसानों की समस्या को नहीं खत्म कर सकती है तो उन्हें सरकार से इस्तीफा दे देना चाहिए।’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *