राहुल बोले-अपने शब्द पर कायम, ट्रायल का करूंगा सामना

नई दिल्ली. राहुल गांधी आरएसएस की मानहानि मामले में ट्रायल का सामना करेंगे। सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को कांग्रेस के वाइस प्रेसिडेंट के वकील की यह अपील खारिज कर दी कि लोअर कोर्ट में मामले की सुनवाई के दौरान मौजूद रहने से उन्हें छूट दी जाए। वकील ने कोर्ट में कहा- “राहुल आरएसएस की तरफ से लगाए गए आरोपों का सामना करने को तैयार हैं। वह महात्मा गांधी की हत्या के लिए आरएसएस के खिलाफ दिए अपने बयान के हर शब्द पर कायम हैं।”
महाराष्ट्र में स्पीच के दौरान मानहानि करने का है आरोप…
– राहुल गांधी पर 2015 में महाराष्ट्र के भिवंडी में एक इलेक्शन रैली में अपनी स्पीच के दौरान आरएसएस की मानहानि करने का आरोप है।
– मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, राहुल ने अपनी स्पीच में 1948 में हुई महात्मा गांधी की हत्या के लिए आरएसएस को दोषी ठहराया था।
– राहुल के खिलाफ मानहानि केस आरएसएस की भिवंडी यूनिट के सेक्रेटरी राजेश कुंटे ने दायर किया था।
– कुंटे का कहना है कि कांग्रेस लीडर ने अपनी स्पीच के जरिए आरएसएस की इमेज को नुकसान पहुंचाने की कोशिश की।
– राहुल अब भिवंडी कोर्ट में ट्रायल का सामना करेंगे।
आरएसएस का क्या कहना है?
– आरएसएस ने कहा कि कांग्रेस लीडर के खिलाफ केस वापस ले लिया जाएगा अगर वह पब्लिकली यह मानें कि उन्होंने गांधी की हत्या के लिए एक इंस्टीट्यूशन के रूप में आरएसएस को दोषी नहीं ठहराया था।
राहुल ने आरएसएस की मांग मानने से किया इनकार
– राहुल के वकील और पूर्व केंद्रीय मंत्री कपिल सिब्बल ने आरएसएस की यह मांग मानने से इनकार कर दिया। कहा- “राहुल आरएसएस के बारे में कहे अपने हर शब्द पर आज भी कायम हैं आैर वह आगे भी अपने शब्द कभी वापस नहीं लेंगे।”
– राहुल की तरफ से कुछ दिनों पहले सुप्रीम कोर्ट में यह बयान दिया गया था कि उन्होंने गांधी की हत्या के लिए आरएसएस के बजाए उससे जुड़े लोगों को दोषी ठहराया था।
– राहुल ने बयान में कहा था कि केस दर्ज कराने वाले महाराष्ट्र के आरएसएस के एक्टिविस्ट ने उनके कमेंट्स का गलत मतलब निकाला था।
राहुल ने ट्वीट में बोला था हमला
– राहुल गांधी ने 25 अगस्त को एक ट्वीट में आरएसएस पर हमला बोला था। लिखा था- “मैं अपने कहे हर शब्द पर कायम हूं। आरएसएस के नफरत और बंटवारे के एजेंडे के खिलाफ मेरी लड़ाई कभी बंद नहीं होगी।”
– राहुल ने ट्वीट के साथ महाराष्ट्र के भि‍वंडी में दी गई अपनी स्पीच का वीडियो भी शेयर किया था।
– राहुल का यह बयान सुप्रीम कोर्ट की उस टिप्पणी के बाद सामने आया था। जिसमें कोर्ट ने कहा था- “हमें लगता है कि आरोपी ने आरएसएस को उस संगठन के रूप में जिम्मेदार नहीं ठहराया है जिसने गांधी की जान ली थी, बल्कि इससे जुड़े एक शख्स को दोषी ठहराया था।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *