लगता है अदालतें भी बेहद सियासी हो गई हैं: ट्रैवल बैन पर ट्रम्प ने कहा

वॉशिंगटन. डोनाल्ड ट्रम्प ने ट्रैवल बैन वाले एग्जीक्यूटिव ऑर्डर की कोर्ट में हो रही सुनवाई को शर्मनाक बताया है। उनका कहना है कि ऐसा राजनीतिक वजहों से किया जा रहा है। ट्रम्प ने कहा कि लगता है, अदालतें भी बेहद सियासी हो गई हैं। बता दें कि ट्रम्प एडमिनिस्ट्रेशन ने 7 मुस्लिम देशों के लोगों के अमेरिका आने पर कुछ वक्त के लिए बैन लगाया था। उनके इस एग्जीक्यूटिव ऑर्डर को लोअर कोर्ट ने सस्पेंड कर दिया था। ट्रम्प एडमिनिस्ट्रेशन ने इस फैसले के खिलाफ अपील की है। ट्रम्प ने कहा- विदेशियों को रोकना मेरा हक है…
Advertisement
– पुलिस के चीफ अफसरों की एक मीटिंग में ट्रम्प ने कहा, “लगता है कि कोर्ट बहुत सियासी हो गई है।”
– “बेहतर होता कि हमारा ग्रेट जस्टिस सिस्टम वह बयान पढ़ता और वो करता जो सही है।”
– अपने ट्रैवल बैन वाले ऑर्डर पर उन्होंने कहा, “दूसरे देश के लोगों को अमेरिका आने से रोकने का मुझे कानूनी हक है।”
– “यह इतना साफ है कि इसे हाईस्कूल के एक बुरे स्टूडेंट को समझना भी मुश्किल नहीं होगा।”
– “यह हमारे देश की सिक्युरिटी से जुड़ा है, जो बेहद अहम है।”
कोर्ट के फैसले को बेहूदा बता चुके ट्रम्प
– लोअर कोर्ट ने जब ट्रम्प के ट्रैवल बैन ऑर्डर को सस्पेंड किया था, तब भी उन्होंने इसे क्रिटिसाइज किया था।
– ट्रम्प ने इस केस से जुड़े जज को ‘सो-कॉल्ड जज’ और उनके फैसले को बेहूदा कहा था।
एडमिनिस्ट्रेशन ने कोर्ट के फैसले के खिलाफ की है अपील
– बता दें कि ट्रम्प ने सात मुस्लिम की ज्यादा आबादी वाले 7 देशों- इराक, सीरिया, ईरान, लीबिया, सोमालिया, सूडान और यमन के लोगों के अमेरिका में एंट्री पर 90 दिनों के लिए बैन लगाया था।
– उनके इस ऑर्डर को कोर्ट ने सस्पेंड कर दिया। ट्रम्प एडमिनिस्ट्रेशन ने इसके खिलाफ अपील की है।
– इस आॅर्डर पर अमेरिका की 9th सर्किट अपीलेट्स कोर्ट में सुनवाई हो रही है।
कोर्ट ने एेस उठाए बैन पर सवाल
– इस मामले की मंगलवार को कोर्ट में सुनवाई हुई थी। करीब एक घंटे तक बहस हुई।
– उस दौरान जजों ने एडमिनिस्ट्रेशन के दावे को चुनौती दी, जिसमें कहा गया था कि वे ट्रैवल बैन आतंकवाद को रोकने के लिए लगाना चाहते हैं।
– कोर्ट ने ट्रम्प से पूछा है कि क्या उनके फैसले को मुस्लिमों के खिलाफ नहीं देखा जाना चाहिए?
– जजों ने कहा कि अगर ऐसा है तो यह अनकॉन्स्टिट्यूशनल है।
– माना जा रहा है कि इस पर अगले हफ्ते तक कोर्ट का फैसला आ जाएगा।
– तीन जजों वाली अपीलेट्स कोर्ट ने इस बात पर बहस कर रही थी कि लोअर कोर्ट की ओर से जो फैसला आया है, उसे बरकरार रखना चाहिए या नहीं।