ललित मोदी ने अब लिया पीएम का नाम, नरेंद्र मोदी को बताया सबसे काबिल शख्स

नई दिल्ली. आईपीएल के पूर्व कमिश्नर ललित मोदी ने अब पीएम के बारे में किया ट्वीट कर उनकी तारीफ की है। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और राजस्थान की मुख्यमंत्री मंत्री वसुंधरा राजे से मदद लेकर फिर से चर्चा में आए ललित मोदी ने कहा, ”पीएम बहुत काबिल व्यक्ति हैं, गेंद को सीमा के बाहर मारने में सक्षम।” एक ट्वीट को जवाब में उन्होंने ये बातें रीट्वीट में कहीं।
क्यों किया रीट्वीट
एक ट्वीट पर रीट्वीट करते हुए कहा, ”हमारे प्रधानमंत्री काबिल व्यक्ति हैं। उन्हें मेरे सलाह की जरूरत नहीं है। वह गेंद को मैदान से बाहर मार सकते हैं, उनका केवल सम्मान किया जा सकता है।” @Animeshr ने ट्वीट किया था, ”आपने हमेशा फ्रंट फूट में खेला है, कठिन विकेटों पर भी। मीडिया को मैनेज करने में परेशान हमारे पीएम को आपकी क्या सलाह होगी?” इसी ट्वीट के जवाब में ललित मोदी ने पीएम मोदी की तारीफ में रीट्वीट किए।
ललित मोदी से मुलाकात की बात को प्रियंका ने नकारा
कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की बेटी प्रियंका गांधी ने ललित मोदी के दावे को नकार दिया है। ललित मोदी ने शुक्रवार को ट्वीट में दावा किया था कि वे दो बार लंदन में प्रियंका गांधी वाड्रा और रॉबर्ट वाड्रा से मिले थे। इससे डिफेंसिव खेल रही भाजपा को मौका मिल गया। हालांकि, प्रियंका ने आरोपों को गलत बताते हुए कहा- हम कभी उनसे नहीं मिले। प्रियंका-राॅबर्ट वाड्रा से मिलने को लेकर ललित मोदी ने दावा किया-मुलाकात 2013 और 2014 में हुई, जब गांधी परिवार सत्ता में था। प्रियंका और रॉबर्ट से वे अलग-अलग मिले थे। इससे पहले विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे पर ललित मोदी की मदद के आरोप हैं। विपक्ष दोनों के इस्तीफे मांग रही है। हालांकि, प्रियंका के दफ्तर से बयान जारी करके बताया गया कि कोई मुलाकात नहीं हुई।
ललित मोदी ने अब तक किन नामों को लेकर किए हैं दावे?
नाम
हर पार्टी पर भारी पड़ रहे ललित मोदी के दावे
सोनिया गांधी-राहुल गांधी, कांग्रेस अध्यक्ष और उपाध्यक्ष
ललित मोदी ने ट्वीट किया है कि गांधी परिवार से मुलाकात हुई तो उन्हें खुशी होगी। इसी के साथ उन्होंने एक खबर का जिक्र किया है जिसमें दावा किया गया है कि सोनिया-राहुल अभी विदेश यात्रा पर हैं। ललित मोदी इशारा कर रहे हैं कि गांधी परिवार संभवत: ब्रिटेन में ही है।
प्रियंका गांधी-रॉबर्ट वाड्रा, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के बेटे और दामाद
ललित मोदी अपने ट्वीट में यह भी दावा कर रहे हैं कि उनकी एक-एक बार रॉबर्ट और प्रियंका से मुलाकात हुई थी। तब यूपीए सत्ता में थी।
कांग्रेस की सफाई
कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा- प्रियंका गांधी और रॉबर्ट वाड्रा की कभी भी ललित मोदी से मुलाकात नहीं हुई। अगर आप किसी व्यक्ति को लोगों से भरे रेस्त्रां में देख लें तो यह गलत भी नहीं है और अपराध भी नहीं।
नरेंद्र मोदी,प्रधानमंत्री
16 सितंबर 2009 को राजस्थान रॉयल्स के वाइस प्रेसिडेंट शांतनु चारी ने ललित मोदी को ईमेल किया। इसमें कहा कि नरेंद्र मोदी और उनके पदाधिकारियों से मुलाकात कराई जाए। ललित ने मुलाकात का भरोसा दिलाया। नरेंद्र मोदी तब गुजरात के सीएम थे। वे इस ईमेल से कुछ ही दिन पहले गुजरात क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष चुने गए थे।
अमित शाह,भाजपा अध्यक्ष
7 मार्च 2010 की सुबह 10.55 बजे ललित मोदी ने शाह को 3 मिनट के लिए फोन किया। यह फोन आईपीएल-4 में दो नई टीमों को शामिल करने को लेकर उठे विवाद के दूसरे दिन ही हुआ।
शरद पवार,एनसीपी चीफ
लंदन से बाहर जाने के लिए ट्रेवल डॉक्यूमेंट मिलने के बाद कई लोगों का शुक्रिया अदा करते ईमेल में पवार का भी नाम था। पवार का कहना है कि मेरा ऑफिस मेरे ईमेल चेक करता है। मैं नहीं जानता कि क्या मोदी ने तब कोई मेल किया था?
सरकार की सफाई
वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा- सरकार नियमों के मुताबिक चलेगी। हम सुनिश्चित करेंगे कि ईमानदारी पूरी तरह बरकरार रहे।
अब तक किन बड़े नामों पर लगे आरोप?
नाम
आरोप
सफाई
ओमिता पॉल,राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की सचिव
ललित मोदी ने ट्वीट में आरोप लगाया कि सबसे बड़ा हवाला विवेक नागपाल चलाते हैं, जिन्हें ओमिता पॉल के बैगमैन (गलत काम के लिए पैसा एकट्ठा करने वाला) के रूप में जाना जाता है।”
राष्ट्रपति भवन ने अपने बयान में कहा कि ललित मोदी के आरोप बेबुनियाद हैं। नागपाल के बारे में बताया जाता है कि उनकी एक कंपनी पद्मिनी टेक्नोलॉजी के खिलाफ ईडी ने जांच की थी। कंपनी ने आईटी रिटर्न में अपनी आमदनी शून्य बताई थी। इस पर भी सवाल उठे थे।
सुषमा स्वराज,विदेश मंत्री
ललित मोदी पत्नी के इलाज के लिए ब्रिटेन से पुर्तगाल जाना चाहते थे। ट्रेवल डॉक्यूमेंट्स दिलाने में सुषमा ने मदद की। पति स्वराज कौशल ललित के वकील हैं। बेटी बांसुरी भी ललित के वकीलों की टीम में रहीं।
सुषमा ने कई ट्वीट कर सफाई दी। कहा- ललित मोदी की मदद इंसानियत के नाते की। गृह मंत्री राजनाथ सिंह और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह भी बचाव में आए।
वसुंधरा राजे,राजस्थान की मुख्यमंत्री
ललित की इमिग्रेशन अर्जी का वसुंधरा ने अपना नाम गोपनीय रखने की शर्त पर समर्थन किया। सीक्रेट विटनेस बनीं। अब इस्तीफे का दबाव।
वसुंधरा के दफ्तर ने अपने बयान में कहा कि अफवाहों के आधार पर मीडिया खबरें चला रहा है। संघ और भाजपा ने भी उनके बचाव में खुलकर कोई बयान नहीं दिया।
दुष्यंत सिंह,वसुंधरा के बेटे
मोदी ने 2013 में बेटे दुष्यंत सिंह की कंपनी के 6000 शेयर खरीदे। मूल्य 10 रुपए था लेकिन मोदी ने 96 हजार रुपए/शेयर चुकाए। बिना गारंटी के दुष्यंत की कंपनी को 11 करोड़ रुपए का लोन भी दिया।
दुष्यंत ने कहा- मेरी कंपनी का लेनदेन पूरी तरह कानूनी था। सरकार पहले बचाव में दिखी। लेकिन बाद में वित्त मंत्री अरुण जेटली ने बयान दिया कि दुष्यंत के मामले में जांच जारी है। उन्हें अभी क्लीन चिट नहीं मिली है।
राकेश मारिया,मुंबई पुलिस कमिश्नर
ललित मोदी से लंदन में जाकर मुलाकात क्यों की? जबकि उन पर ईडी के मामले चल रहे हैं।
मारिया ने जवाब में कहा कि मोदी ने अंडरवर्ल्ड से खतरा होने का अंदेशा जताया था। उनके वकील के जोर देने पर मुलाकात की। इस बारे में तत्कालीन गृह मंत्री आर.आर. पाटिल को भी बताया था।