लोकसभा स्पीकर बने ओम बिरला, कोटा-बूंदी सीट से जीतकर दूसरी बार पहुंचे हैं संसद

नई दिल्लीः भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के वरिष्ठ नेता ओम बिरला लोकसभा के स्पीकर चुन लिए गए हैं. एनडीए ने ओम बिरला को अपना प्रत्याशी बनाया था. एनडीए के इस प्रस्ताव को सभी दलों ने अपना समर्थन दिया. सभी दलों ने ध्वनि मत से ओम बिरला के नाम पर मुहर लगाया. बिरला ने सोमवार को स्पीकर पद के लिए नामांकन दाखिल किया था.

बिरला (57) राजस्थान से तीन बार विधायक और दो बार सांसद रहे हैं. इस बार इन्होंने राजस्थान के कोटा-बूंदी संसदीय सीट से जीत दर्ज की है. ओम बिरला ने वाणिज्य से एमए की डिग्री ली है.

दूसरी बार बने हैं सांसद

वे दिसम्बर 2003 से 2013 तक लगातार तीन बार राजस्थान विधानसभा के सदस्य रहे. वे छह साल तक अखिल भारतीय जनता युवा मोर्चा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रहने के बाद भारतीय जनता युवा मोर्चा राजस्थान प्रदेश के अध्यक्ष बने.

आमतौर पर लोकसभा स्पीकर पद के लिए वरिष्ठता क्रम पर विचार किया जाता है लेकिन ऐसे भी मौके रहे हैं जब एक बार और दो बार के निर्वाचित सांसद अध्यक्ष बने हैं.

मनोहर जोशी को 2002 में लोकसभा स्पीकर चुना गया था और तब वह पहली बार ही सांसद बने थे. उन्होंने दो बार के सांसद जीएमसी बालयोगी का स्थान लिया था जिनकी हेलीकॉप्टर दुर्घटना में मौत हो गई थी.

कौन-कौन नेता बने थे ओम बिरला के प्रस्तावक

प्रधानमंत्री मोदी, गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ओम बिरला के प्रस्तावक थे. वहीं प्रस्ताव पर बीजेडी, शिवसेना, नेशनल पीपुल्स पार्टी, मिज़ो नेशनल फ्रंट, अकाली दल, लोक जनशक्ति पार्टी, वाईएसआर कांग्रेस, जेडीयू, एआईएडीएमके और अपना दल के नेताओं ने हस्ताक्षर किए थे.