विरोध के बाद भारत ने रद्द किया चीन के इस ‘आतंकी’ का वीजा, ये बताई वजह

नई दिल्ली.भारत ने चीन के विरोध के बाद उइगर कम्युनिटी के बागी लीडर डोल्कन ईसा का वीजा रद्द कर दिया है। इसकी वजह यह बताई गई है कि ईसा के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस जारी है। दरअसल, पठानकोट हमले के मास्टरमाइंड मसूद अजहर को यूएन के जरिए आतंकी करार देने की भारत की कोशिशों में चीन ने अड़ंगा डाला था। इसके बाद जर्मनी में मौजूद इंडियन एंबेसी से उन्हें वीजा जारी किया था। भारत के कदम को चीन से मसूद का बदला माना गया था।
क्या है मामला….
 – ईसा धर्मशाला में 28 अप्रैल से 1 मई के बीच होने वाली काॅन्फ्रेंस में हिस्सा लेने के लिए भारत आना चाहते थे।
– ईसा इस दौरान दलाई लामा से भी मुलाकात करने वाले थे।
– चीन ईसा को आतंकी मानता है और उसने भारत के इस कदम पर एतराज जताया था।
क्या कहा था ईसा ने?
 – भारत से वीजा मिलने की खबर के बाद ईसा ने कहा था- चीन ने मुझे 1997 में इंटरपोल की लिस्ट में शामिल करवाया था। हालांकि ज्यादातर देशों ने इस बात को नजरअंदाज किया है।
– उन्होंने कहा था- “इंडिया एक डेमोक्रेसी है। मुझे नहीं लगता कि मुझे वहां अरेस्ट किया जाएगा। लेकिन मैं कोई मुश्किल नहीं खड़ी करना चाहता हूं।”
– ईसा ने कहा था- “मुझे वीजा मिलने से चीन सरकार नाखुश है। इंडियन गवर्नमेंट को मेरी सिक्युरिटी और फ्री मूवमेंट की गारंटी देनी चाहिए।”
– बता दें कि धर्मशाला में कॉन्फ्रेंस अमेरिका के ‘सिटिजन पावर फॉर चाइना’ की ओर से की जा रही है।
– इस ग्रुप के चीफ यांग जियानली हैं, जो 1989 में थियानमेन स्क्वेयर पर हुए प्रोटेस्ट में शामिल थे।
उइगर लीडर्स पर शिंजियांग में टेररिज्म को बढ़ावा देने का है आरोप
 – चीन की फॉरेन मिनिस्ट्री के स्पोक्सपर्सन हुआ शुनयिंग ने मीडिया से बातचीत में कहा था- “डोल्कन एक आतंकी है। उसके खिलाफ इंटरपोल ने रेड कॉर्नर नोटिस जारी किया हुआ है।”
– हुआ से जब रिपोटर्स ने पूछा गया था कि ईसा समेत WUC के बाकी लीडर्स इस महीने दलाई लामा से मिलने भारत जाने वाले हैं और भारत ने इसकी इजाजत दी है, तो इस पर हुआ ने कहा था कि उन्हें इस बारे में कोई जानकारी नहीं है।
कौन हैं डोल्कन ईसा?
– म्यूनिख के रहने वाले डोल्कन ईसा काे 1990 में जर्मनी ने शरण दी थी।
– ईसा वर्ल्ड उइगर कांग्रेस (WUC) का लीडर है। ईसा के मुताबिक, भारत ने उसे इलेक्ट्रॉनिक वीजा दिया है।
– WUC चीन से बाहर रहने वाले उइगर कम्युनिटी के लोगों का एक ग्रुप है।
– ईसा पर चीन के शिंजियांग प्रोविन्स में आतंकवादी घटनाओं में शामिल होने और लोगों की हत्या की साजिश रचने का आरोप है। 1997 से वह इंटरपोल की लिस्ट में है।