वॉलमार्ट-फ्लिपकार्ट डील से भारत को लेकर निवेशकों तक गया अच्छा संकेत

वॉलमार्ट-फ्लिपकार्ट डील से भारत को लेकर दुनिया भर के निवेशकों तक गया अच्छा संकेत,नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार ने कहा भारत एक अच्छा और बड़ा बाज़ार है,इस डील से ई-कॉमर्स मार्केट में उछाल आएगा साथ इससे स्माल और मीडियम लेवेल के ट्रेडर्स पर बुरा प्रभाव नहीं पड़ेगा

ई – कॉमर्स कंपनी फ्लिपकार्ट के अधिग्रहण की घोषणा के बाद अब वॉलमार्ट की योजना भारत में नए स्टोर खोलने की है। कंपनी ने आज कहा कि वह अपने थोक कैश एंड कैरी कारोबार में वृद्धि जारी रखेगी और अगले चार – पांच वर्षों में 50 नए स्टोर खोलेगी। वॉलमार्ट इंडिया के अध्यक्ष और सीईओ कृष अय्यर ने फ्लिपकार्ट सौदे पर जानकारी देने के लिए बुलाई गई मीडिया बैठक में कहा , ” वर्तमान में हमारे 21 स्टोर हैं और हमारी योजना 4 से 5 वर्ष में 50 स्टोर खोलने की है। ”

अय्यर ने कहा , ” जैसा कि हमने कहा हमारे पास 20 स्टोर हैं और चालू वित्त वर्ष में 5 और स्टोर खुलने की उम्मीद है। हमारी इसे बढ़ाकर सालाना 12-15 स्टोर करने की कोशिश है।

वॉलमार्ट 9 राज्यों के 19 शहरों में कारोबार कर रहा है। कृष ने कहा कि हम इसमें कमी नहीं करने जा रहे हैं। हम इन क्षेत्रों में ध्यान केंद्रित करना जारी रखेंगे लेकिन हम प्रारंभिक रूप से पंजाब , हरियाणा , उत्तर प्रदेश , उत्तराखंड , महाराष्ट्र , आंध्र प्रदेश और तेलंगाना पर ध्यान देंगे।

वॉलमार्ट के मुख्य कार्यकारी अधिकारी डग मैकमिलन ने कहा कि फ्लिपकार्ट एक अलग कंपनी के रूप में परिचालन जारी रखेगी। इसका बोर्ड भी अलग होगा। फ्लिपकार्ट वॉलमार्ट को आनलाइन पहुंच प्रदान करेगी।

वॉलमार्ट भारत की खुदरा नीति के चलते ग्राहकों को सीधे सामान बेचने में असमर्थ है। नीति के तहत विदेशी कंपनियां ( थोक कैश एंड कैरी श्रेणी को छोड़कर ) ग्राहकों को सीधे सामान नहीं बेच सकती हैं। फ्लिपकार्ट और अमेजन जैसी कंपनियां ई – कॉमर्स क्षेत्र में काम कर रही है , जहां पर 100 प्रतिशत प्रत्यक्ष विदेशी निवेश की अनुमति है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *