वोट न डालने पर मोदी का दिग्विजय से सवाल- इतना डर क्यों गए, आप तो जाकिर नाइक से भी नहीं डरते

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को मध्यप्रदेश के रतलाम में जनसभा को संबोधित किया। उन्होंने भोपाल के कांग्रेस प्रत्याशी दिग्विजय सिंह के राघौगढ़ में वोट नहीं डालने पर तंज कसा। मोदी ने पूछा कि इससे युवाओं में क्या संदेश जाएगा? दिग्गी राजा इतना क्यों डर गए? आप तो जाकिर नाइक से भी नहीं डरते हो। मोदी ने कहा कि कांग्रेस के महामिलावटी 1984 के दंगे, भगवा आतंकवाद और घोटालों पर निर्लज्जता से कहते हैं कि हुआ तो हुआ। यह कांग्रेस का अहंकार है, लेकिन मैं कहता हूं कि गरीबों के साथ भद्दा मजाक अब बहुत हुआ।

मोदी ने कहा, ‘‘रतलाम महान क्रांतिकारी चंद्रशेखर आजाद की भूमि है। उनके संस्कार हैं कि हम मां भारती के वंदन से अपना काम शुरू करते हैं, लेकिन कांग्रेस को भारत माता की जय बोलने में दिक्कत होती है। सिर्फ मुझे गाली देने में ही उन्हें खुशी होती है। देश गालियों से चलेगा कि राष्ट्रभक्ति से। नामदार भाषण की शुरुआत ही गालियों से करते हैं। नामदार लोग युद्धपोत का इस्तेमाल परिवार की पिकनिक के लिए करते हैं। फिर वे निर्लज्जता से कहते हैं कि हुआ तो हुआ।’’

दिग्विजय के वोट नहीं डालने पर तंज कसा

प्रधानमंत्री ने कहा कि कांग्रेस का अहंकार कल भोपाल में दिखा। देश के लाखों लोग वोट डाल रहे थे, राष्ट्रपति भी गए थे। लेकिन दिग्गी राजा को लोकतंत्र की चिंता ही नहीं है। कल रो रहे थे और इसलिए वोट डालने की जरूरत भी नहीं समझी। दिग्गी राजा हो सकता है कि आपको वहां का उम्मीदवार पसंद न हो, घर का कोई झगड़ा हो, लेकिन जाते तो सही। दिग्गी राजा इतना क्यों डर गए। आप तो जाकिर नाइक से भी नहीं डरते हो फिर आपको अपने ही क्षेत्र के लोगों से डर क्यों लगा। युवाओं को आपने क्या संदेश दिया?

कांग्रेस घोटालों पर कहती रही कि हुआ तो हुआ

मोदी ने कहा, ‘‘कांग्रेस राज में देश में आए दिन बम धमाके होते थे। लेकिन वे कहते रहे हुआ तो हुआ। बोफोर्स, पनडुब्बी और हेलिकॉप्टर घोटाले पर इनका एक ही जवाब है हुआ तो हुआ। उनके राज में हमारे सैनिकों को बुलेटप्रूफ जैकेट तक नहीं मिल पाती थीं और जब इनसे सवाल करो तो कहते थे कि हुआ तो हुआ। उन्होंने हिंदू आतंकवाद को गढ़ने का काम किया। इसके चलते असली आतंकवादी बचकर निकलते रहे। कांग्रेस की इसी सोच ने देश का नुकसान कराया है। कांग्रेस ने कर्जमाफी का वादा कर मध्यप्रदेश के किसानों को ठगा है। क्या आप उन्हें दोबारा ठगने का अधिकार देंगे?’’