व्यापमं: 3 दिन में तीसरी मौत, तालाब में मिला 25 साल की ट्रेनी सब इंस्पेक्टर का शव

भोपाल. मध्य प्रदेश में व्यापमं घोटाले से जुड़ी मौतों का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। सोमवार सुबह 5.30 बजे मध्य प्रदेश के सागर पुलिस ट्रेनिंग अकादमी में सब इंस्पेक्टर की ट्रेनिंग कर रही अनामिका कुशवाहा का शव संदिग्ध हालत में तालाब से मिला। पुलिस अनामिका की मौत को खुदकुशी बता रही है। जानकारी के मुताबिक, भिंड की रहने वाली अनामिका 2014 बैच की ट्रेनी सब इंस्पेक्टर थीं। वह व्यापमं का एग्जाम देकर इंस्पेक्टर बनी थीं। गौरतलब है कि अब तक व्यापमं घोटाले से जुड़े 40 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। इससे पहले, शनिवार को एक टीवी चैनल के जर्नलिस्ट अक्षय सिंह और रविवार को जबलपुर मेडिकल कॉलेज के डीन अरूण शर्मा की दिल्ली के होटल में संदिग्ध हालत में मौत हुई थी। (पत्रकार की मौत से जुड़े अपडेट्स पढ़ने के लिए यहां क्लिक करके पढ़ें)
कांग्रेस ने की सीबीआई जांच की मांग
कांग्रेस महासचिव और मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने कहा कि जब सीएम शिवराज हर मामले में सीबीआई जांच करवाने लगते हैं तो इस बार वह ऐसा करने से क्यों मना कर रहे हैं? उधर, बीजेपी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने कहा है कि व्यापमं मामले की जांच हाईकोर्ट की निगरानी में चल रही है। अगर इसे बीच में ही सीबीआई को सौंपा जाएगा तो इससे हाईकोर्ट का अपमान होगा।
क्या है व्यापमं घोटाला
व्यावसायिक परीक्षा मंडल (व्यापमं) मध्य प्रदेश में उन पदों की भर्तियां करता है, जिनकी भर्तियां म.प्र. लोक सेवा आयोग नहीं करता। इसके तहत प्री मेडिकल टेस्ट, प्री इंजीनियरिंग टेस्ट और कई सरकारी नौकरियों के एग्जाम होते हैं। घोटाले की बात उस वक्त सामने आई जब कॉन्ट्रैक्ट टीचर्स, ट्रैफिक पुलिस, सब इंस्पेक्टरों की भर्ती परीक्षा के अलावा मेडिकल एग्जाम में ऐसे लोगों को पास किया गया जिनके पास एग्जाम में बैठने तक की योग्यता नहीं थी। सरकारी नौकरियों में करीब हजार से ज्यादा और मेडिकल एग्जाम में 500 से ज्यादा भर्तियां शक के घेरे में हैं। इस घोटाले की जांच मध्य प्रदेश हाईकोर्ट की निगरानी में एसआईटी कर रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *