सचिन को नीचा दिखाने के लिए इस हद तक गिरे पोंटिंग, बोल रहे हैं झूठ

लंदन. कहते हैं अहम इंसान को अंधा बना देता है। ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान रिकी पोंटिंग इसी बीमारी से ग्रसित हो गए हैं। मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंडुलकर को क्रिकेट वर्ल्ड में छोटा साबित करने के लिए वे झूठ पर झूठ बोले जा रहे हैं।
इस साल मुंबई इंडियंस टीम से सचिन के साथ खेले पोंटिंग ने अपने ही ‘साथी’ पर अटैक करते हुए कहा, “सचिन और ब्रायन लारा दोनों ही बेहतरीन खिलाड़ी हैं। लारा ने अपनी टीम को सचिन से ज्यादा मैच जिताए हैं। जब लारा बल्लेबाजी को आते थे तो बतौर कप्तान मेरी नींदें उड़ जाती थी। सचिन से ज्यादा मुझे लारा से डर लगता था।”
पोंटिंग ने सचिन पर वार करते हुए कहा, “सचिन को आउट करने की रणनीति बनाना बहुत आसान था, लेकिन लारा के लिए हमें घंटों दिमाग लगता था। वे महज डेढ़ घंटे के खेल से ही मैच आपसे छीन कर ले जाते थे।”
ऑस्ट्रेलियाई टीम खुद फिलहाल खराब फॉर्म से जूझ रही है। लगातार पांच टेस्ट मैच हारने के बाद पूर्व कप्तान का ऐसे बयान देना किसी के गले नहीं उतर रहा।
ब्रायन चार्ल्स लारा एक बेहतरीन क्रिकेटर थे, लेकिन आंकड़ों के मामले में सचिन उनसे कहीं आगे हैं। पोंटिंग शायद अपना मुंह खोलने से पहले रिकॉर्ड्स पर नजर नहीं फिरा सके।
पहला दावा – लारा ने सचिन से ज्यादा मैच जिताए
टेस्ट हो या वनडे, दोनों मोर्चों पर सचिन तेंडुलकर ब्रायन लारा से आगे रहे।
सचिन तेंडुलकर ने जहां 1990 से 2013 के बीच खेले 70 मैचों में भारतीय टीम को जीत दिलाई। उन्होंने अपने करियर में अबतक 198 टेस्ट मैच खेले हैं।
वहीं ब्रायन लारा 1992 से 2005 के बीच कुल 32 मैचों में टीम को विनर बना सके। लारा ने अपने करियर में कुल 131 टेस्ट मैच खेले थे।
जीत प्रतिशत में भी सचिन लारा से आगे हैं। सचिन का विनिंग परसेंट जहां 35.5 का रहा है, वहीं लारा का सिर्फ 24.4 फीसदी रहा है।
दावा नंबर 2 – सचिन से ज्यादा लारा को आउट करना मुश्किल
पोंटिंग का कहना है कि उन्हें सचिन से ज्यादा लारा को आउट करने में दिक्कत महसूस होती थी। दोनों धुरंधरों के आंकड़े उठाकर देखे जाएं तो यहां भी पोंटिंग झूठे साबित होते हैं।
लारा ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेले 31 मैचों में कुल दो बार ही नॉटआउट रहे। उन्होंने 31 मैचों की 58 पारियों में 51.0 के औसत से 2856 रन बनाए, जिसमें 9 शतक और 11 अर्धशतक शुमार रहे। पांच बार वे बिना खाता खोले भी आउट हुए।
वहीं यदि सचिन की बात करें तो ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेले 39 मैचों में वे 8 बार नॉटआउट रहे। उन्होंने कंगारुओं के खिलाफ खेली 74 पारियों में 55.0 के औसत से 3630 रन बनाए, जिसमें 11 सेंचुरी और 16 हाफ सेंचुरी शामिल हैं। सचिन कुल 4 बार बिना खाता खोले आउट हुए।
वनडे में नंबर 1 हैं सचिन
वनडे क्रिकेट में जीते हुए मैचों में सबसे ज्यादा रन बनाने के मामले में सचिन तेंडुलकर नंबर 1 हैं। उन्होंने अपने करियर में 234 मैचों में टीम को जीत दिलाई। उन जीते हुए मुकाबलों की 231 पारियों में सचिन ने 56.63 के औसत से 11157 रन बनाए, जिसमें 33 शतक और 59 अर्धशतक शामिल रहे।
ब्रायन लारा इस मामले में भी सचिन से पीछे ही हैं। लारा ने अपने करियर में 139 मैचों में वेस्ट इंडीज को जीत दिलाई। जीते हुए मैचों की 134 पारियों में उन्होंने 61.82 के औसत से 6553 रन बनाए, जिसमें 16 शतक और 42 अर्धशतक शुमार रहे।
सबसे ज्यादा मैच जिताने का वर्ल्ड रिकॉर्ड
टेस्ट हो या वनडे या टी-20, हर मोर्चे पर जीत दिलाने के मामले में सचिन लारा आगे हैं। ओवरऑल क्रिकेट (टेस्ट + वनडे + टी-20) में सबसे ज्यादा विनिंग मैच खेलने का रिकॉर्ड पोंटिंग के नाम है।
पोंटिंग ने करियर में 377 मैच जीतते हुए 53.42 के औसत से 20140 रन बनाए। इसमें 55 सेंचुरी और 112 हाफ सेंचुरी शुमार हैं।
सचिन ने 1990 से 2013 के बीच 305 मैच जीतते हुए 58.31 के औसत से 17029 रन बनाए। इसमें 53 सेंचुरी और 82 हाफ सेंचुरी शामिल हैं।
ब्रायन लारा इस रिकॉर्ड लिस्ट में पांचवें स्थान पर हैं। वे अपने करियर में कुल 171 मैच जीत सके। जीते हुए मैचों की 186 पारियों में उन्होंने 24 सेंचुरी और 58 हाफ सेंचुरी समेत 9482 रन बनाए।
ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सचिन की टॉप पांच टेस्ट सेंचुरी-
नाबाद 241 रन – सिडनी – 2 जनवरी 2004
214 रन – बेंगलुरु – 9 अक्टूबर 2010
177 रन – बेंगलुरु – 25 मार्च 1998
नाबाद 155 रन – चेन्नई – 6 मार्च 1998
नाबाद 154 रन – सिडनी – 2 जनवरी 2008

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *