सलमान के डायरेक्टर ने कहा- सबके हैं हनुमान, मुस्लिम भी बोल सकता है जय श्रीराम

मुंबई: कामयाबी के झंडे गाड़ रही सलमान खान स्टारर ‘बजरंगी भाईजान’ के डायरेक्टर कबीर खान का कहना है कि वह देश की एकता, सेक्युलरिज्म और लोगों के आपसी दोस्ती को शिद्दत से महसूस करते हैं और हनुमान किसी एक कम्युनिटी की जागीर नहीं हैं। एक अंग्रेजी अखबार को दिए इंटरव्यू में कबीर खान ने कहा, ”दक्षिणपंथी यह दावा कैसे कर सकते हैं कि बजरंग बली सिर्फ उनके हैं? वह मेरे भी हैं। मैंने स्कूल के दिनों में खेले गए एक नाटक में हनुमान का किरदार निभाया था। लोगों की बर्दाश्त करने की क्षमता जिस तरह से कम होती जा रही है, उसे देख मुझे परेशानी होती है। मुसलमान जय श्रीराम क्यों नहीं बोल सकता? या एक हिंदू अस्सलाम अलैकुम क्यों नहीं बोल सकता? मैं अगर जय श्रीराम बोलता हूं तो क्या मैं मुसलमान नहीं हूं?” कबीर ने माना कि अगर देश के सेक्युलर तानेबाने को नुकसान पहुंचा तो कोई भी चीज देशवासियों को जोड़कर नहीं रख सकती।
फिल्म के नाम पर मिली धमकी
कबीर खान ने बताया कि फिल्म के नाम बजरंगी भाईजान को लेकर उन्हें विश्व हिंदू परिषद् की ओर से कई लेटर मिले। इसमें कहा गया कि वे फिल्म का यह नाम बर्दाश्त नहीं करेंगे। कबीर ने बताया, ”मैंने उन्हें बताया कि भारत ही एक ऐसा देश है, जहां आप यह नाम रख सकते हैं। मैंने फिल्म के इस टाइटल के लिए लड़ाई लड़ी। मुझे पता है कि बजरंगी के साथ कुछ दूसरी छवि भी जुड़ी है। यह नाम लेते ही पहली बार बाबू बजरंगी की तस्वीर जेहन में आती है और यह सबसे नकारात्मक बात है। मैं चाहता था कि बजरंगी को उसी रूप में दिखाया जाए जैसे वे हैं। मैं सिर्फ दक्षिणपंथी लोगों को भगवान हनुमान पर हक जमाने नहीं देने वाला। हनुमान सिर्फ एक समुदाय से संबंध नहीं रखते। हनुमान हमारे चरित्र के प्रतीक हैं। जिस तरीके से जनता ने फिल्म को सराहा है, यह साबित हो गया है कि हनुमान पूरे भारत के हैं।” हिट एंड रन केस में सजा पा चुके सलमान खान की छवि सुधारने के एजेंडे के तहत फिल्म बनाने के आरोपों पर कबीर ने खारिज किया।