सांवेर उपचुनाव की लड़ाई साधु और शैतान में तब्दील!

  • भाजपा गांव-गांव में बताएगी कांग्रेस नेताओं के कारनामें

शैलेन्द्र सिंह पंवार, इंदौर। सांवेर विधानसभा उपचुनाव की चुनावी लड़ाई अब साधु और शैतान के रूप में तब्दील होते हुए दिखाई दे रही है। पिछले दिनों मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की मौजूदगी में हुए कार्यकर्ता सम्मेलन में भाजपा ने एक विज्ञापन के माध्यम से ये जुमला चलाया था, इसके बाद कांग्रेस ने इसकी चुनाव आयोग को शिकायत की थी। शिकायत के बाद भी भाजपा नहीं रूकी, और जिलाध्यक्ष राजेश सोनकर व प्रदेश प्रवक्ता उमेश शर्मा ने साधु और शैतान को एक प्रवृत्ति बताकर कांग्रेस को घेरा। कांग्रेस नेताओं के लिए मनोचिकित्सक रखने की सलाह भी दी।

माना जा रहा था कि इसके बाद ये एपिसोड समाप्त हो जाएगा, रविवार को भाजपा के वार रूम शुभारंभ अवसर पर सुमित्रा महाजन ने भी सांवेर चुनाव के संदर्भ में साधु और शैतान प्रवृत्ति की शैली भाजपा में नहीं होने की बात कह कर इस जुमले से किनारा करने के संकेत दिए थे, लेकिन इस जुमले से संबंधित सोमवार को जिलाध्यक्ष राजेश सोनकर के हवाले से कुछ समाचार पत्रों में विज्ञापन भी जारी किए। जिससे तय है कि सांवेर की लड़ाई अब भाजपा-कांग्रेस प्रत्याशियों के बीच साधु और शैतान के रूप में तब्दील हो गई है। सूत्रों की माने तो भाजपा नेताओं को ये जुमला बहुत कारगर लगा है और आने वाले दिनों में इसे सांवेर के गांव-गांव में भी पहुंचाया जाएगा। कांग्रेस प्रत्याशी सहित अन्य नेताओं व कार्यकर्ताओं के कारनामों को खोजने के लिए भाजपा ने एक टीम भी लगा दी है, जो जमीन से जुडे मामलों सहित अन्य अवैध गतिविधियों की पड़ताल कर रही है, इसके आधार पर फिर कांग्रेस नेताओं की शैतानी प्रवृत्ति को भाजपा गांव-गांव में बताएगी। सांवेर में भाजपा प्रत्याशी तुलसी सिलावट का मुकाबला कांग्रेस के प्रेमचन्द्र गुड्डू से है। सांवेर के गांवों में ये जुमला इन दिनों चल भी पड़ा है, ग्रामीणों की जुबान पर भी है, और भाजपा कार्यकर्ता अपने चुनावी प्रचार में साधु और शैतान की बात प्रमुखता से कर रहे है।

■ किसने क्या कहा
“साधु और शैतान का जुमला सांवेर के ग्रामीणों का है, गांव-गांव में कांग्रेस नेताओं की शैतानी प्रवृत्ति को ग्रामीणजन बता रहे है। भाजपा ने नहीं, ग्रामीणों ने कांग्रेस प्रत्याशी सहित अन्य नेताओं की शैतानी प्रवृत्ति को उजागर का करने का निर्णय लिया है।”
@ गौरव रणदिवे, भाजपा नगर अध्यक्ष
“भाजपा में संत प्रवृत्ति के नेताओं का इतिहास है और साधु-संतों के बताए हुए मार्ग पर भाजपा शुरू से ही चलती है। अभी नामांकन जमा नहीं हुआ है और कांग्रेस शिकायतें करने में लग गई है, हम किसी नेता को नहीं कांग्रेस पार्टी को ही शैतानी प्रवृत्ति का मानते है।”
@ गोविंद मालू, भाजपा वार रूम प्रभारी
“कांग्रेस बहुत ही निम्न स्तर पर आ गई है, भाजपा प्रत्याशी पर अमार्यादित आरोप लगाए जा रहे है, जबकि सांवेर के गांव-गांव में तुलसी सिलावट को संत प्रवृत्ति का माना जाता है, इस पर यहां के बाशिंदों ने ही कांग्रेस की शैतानी प्रवृत्ति को घर-घर पहुंचाने का निर्णय लिया है और पहुंचा भी रहे है।”
@ उमेश शर्मा, भाजपा प्रदेश प्रवक्ता

■ ताई ने कहा था, हमारी शैली नहीं
पुर्व लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने रविवार को वार रूम के शुभारंभ अवसर पर कहा था कि साधु और शैतान की शैली भाजपा की नहीं है, सभी को इससे बचना चाहिए, दूसरी और भाजपा नेता साधु और शैतान के जुमले को खूब प्रचारित कर रहे है। इससे स्पष्ट है कि ताई सहित पार्टी का ही एक धड़ा इस तरह के चुनावी प्रचार से सहमत नहीं है।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *