सांवेर के आंगन में फिर “तुलसी” को विराजित करने की तैयारी

  • सड़क,पानी और बिजली के कामों पर दिन रात जुटे कई विभाग

शैलेन्द्र सिंह पंवार, इन्दौर। सांवेर के आंगन में “तुलसी” को फिर से विराजित करने की हर तरह से तैयारी की जा रही है, शिवराज सरकार अपने स्तर पर काम कर रही है, वहीं भाजपा संगठन भी गांव-गांव सक्रिय हो गया है। कांग्रेस के संभावित उम्मीदवार प्रेमचन्द्र गुड्डू को भाजपा किसी भी रूप में हल्के में नहीं ले रही है, इस कारण से सरकार और संगठन, दोनों ही मोर्चे पर जुटे हुए है।
कमलनाथ सरकार में मंत्री तुलसी सिलावट भले ही सांवेर क्षेत्र को सौगातें नहीं दे सके, पर शिवराज सरकार में कोई कसर नहीं छोड़ रहे है। सिलावट की अनुशंसा पर कई सरकारी विभाग रातों रात डीपीआर तैयार कर रहे है और फिर इन्हे स्वीकृत करा कर निर्माण कार्यों के टेंडर भी जारी किए जा रहे है। पिछले दिनों में सांवेर क्षेत्र के अनेक कामों के करोड़ों रूपए के टेंडर जारी किए जा चुके है, ये सिलसिला रूक भी नहीं रहा है। जुलाई माह में भी कई निर्माण कार्यों के टेंडर जारी किए जाने की तैयारियां कर ली गई है। इनमे कई टेंडरों को फायनल कराने के लिए मंत्री सिलावट जुटे हुए है और इसमे भाजपा के वरिष्ठ नेताओं का भी सहयोग ले रहे है। कई टेंडर फायनल होते ही जुलाई के अंत या अगस्त की शुरूआत में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान या सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया से इनका भूमिपूजन व शिलान्यास करने की भी योजना है। सांवेर में सड़क, पानी और बिजली से जुडे कामों को प्राथमिकता दी जा रही है, अधिकांश क्षेत्र ग्रामीण होने से लोगों की शिकायतें भी इनसे संबंधित अधिक रहती है।

■ ये जुटे विराजित करने में
लोक निर्माण विभाग, प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क विकास प्राधिकरण व मनरेगा के व्दारा सड़कों का निर्माण, नवीनिकरण आदि किए जा रहे है, वहीं ग्रामीण यांत्रिकी सेवा विभाग व पीआईयू आधे अधूरे भवनों को पुरा करने में जुटा है। लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग दिन-रात नए नलकूपों का खनन कर रहा है, जिनमे पानी नहीं है या फिर जीर्ण-शीर्ण है, उनकी भी मरम्मत की जा रही है। जबकि बिजली कंपनी अभी तक दर्जनों ट्रांसफार्मर स्थापित कर चुकी है और इतनी ही की तैयारी में है। बिजली पोल व लाईनों के भी काम किए जा रहे है। जिला व जनपद पंचायत तथा सिंचाई विभाग से दर्जनों गांवों के तालाबों का गहरीकरण व उन्नयन भी किया जा चुका है।

■ एक नजर में
∆ लोक निर्माण विभाग के एक इंजीनियर की माने तो सांवेर में 50 करोड़ रूपए से अधिक के निर्माण कार्य प्रगति पर है, जबकि छोटे-बड़े इतने ही राशि के कामों के टेंडर भी लगाए जा चुके है।

∆ पीएचई के एक अधिकारी के अनुसार सांवेर के नलकूप खनन के सैकड़ों प्रस्ताव है, कई गांवों में इनका खनन भी किया जा चुका है, इनमे मोटर भी लगाई जा रही है। खनन का ये काम लगातार जारी है।

∆ बिजली कंपनी एक इंजीनियर के अनुसार सांवेर को लेकर सबसे अधिक दबाब है, ग्रामीणों से वसूली में नरमी बरती जा रही है, ट्रांसफार्मर के साथ ही पोल व लाईनों पर भी दिन रात काम किया जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *