सीएम बोले- बदला लेने पर उतर जाऊं तो विरोधियों की पुश्तें भी मुझे रखेंगी याद

हमीरपुर. अगर मैं अपने विरोधियों से बदला लेना चाहूं, तो ऐसा ले सकता हूं कि उनकी आने वाली पुश्तें भी मुझे याद रखेंगी। लेकिन मैं कभी भी व्यक्तिगत द्वेष से किसी के खिलाफ कुछ नहीं करता हूं। यह बात मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने स्थानीय गांधी चौक पर एक जनसभा को संबोधित करते हुए कही।
आगे सीएम ने पूर्व मुख्यमंत्री धूमल पर साधा निशाना, बीजेपी नेता कांग्रेस में हुए शामिल…
सीएम ने कहा कि धूमल शायद ऐसे माहौल में रहते हैं जहां उन्हें जीवित रहने के लिए कई तरह के ऊंचे हथकंडे अपनाने पड़ते हैं। उन्होंने ना तो धूमल के साथ राजनीतिक और ना ही कोई जायदाद का बंटवारा करवाना है। वह सिर्फ राजनीतिक द्वेष की सोच रखते हैं।
उन्होंने ने कहा कि मोदी सरकार के एक मंत्री अरुण जेटली दिल्ली में बैठकर उनके खिलाफ कई तरह की कार्रवाई करवाते हैं। जबकि दिल्ली क्रिकेट एसोसिएशन में भी 380 करोड़ के घोटाले का आरोप लगा है। उनके खिलाफ इनकम टैक्स इडी सीबीआई तीनों एजेंसी से खेलने की कोशिश की गई है। अदालतों में केस चलाए जा रहे हैं, लेकिन वह न डरते हैं और न ही हार मानेंगे। मैं किसी के आगे न गिड़गिड़ाउंगा न ही झुकूंगा। दोष मुक्त होकर बाहर निकलेंगे। उनके खिलाफ जो कुछ भी हो रहा है उसके पीछे अनुराग ठाकुर हैं।
एचपीसीए के नाम पर करोड़ों की संपत्ति जमा की गई है। सफर बेशक लंबा है, लेकिन वह पाक साफ होकर बाहर निकलेंगे। व्यापार मंडल हमीरपुर के अध्यक्ष राजकुमार शर्मा ने मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह को सम्मानित करते हुए उन्हें चांदी का मुकुट पहनाकर सम्मानित किया।
इस मौके पर आईडी लखनपाल, राजेंद्र राणा, उर्मिल ठाकुर ,प्रमिला देवी, प्रेम कौशल ,बीसी लगवाल, मंजीत डोगरा, नरेश ठाकुर, कुलदीप पठानिया, राजकुमार शर्मा मौजूद थे।
समर्थकों सहित कांग्रेस में शािमल हुए विनाेद ठाकुर
भाजपा के प्रदेश सचिव विनोद ठाकुर वीरवार को स्थानीय गांधी चौक पर मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह की जनसभा में अपने समर्थकों सहित कांग्रेस में शामिल हो गए है। सीएम ने उन्हें हार पहनाकर पार्टी में शामिल किया।
जनसभा को संबोधित करते हुए विनोद ने कहा कि अगर वह पहले ही कांग्रेस पार्टी में आ जाते तो आज उन्हें 22 सालों तक अपनी गलती का खामियाजा नहीं भुगतना पड़ता। उन्होंने कहा कि वर्ष 1995 में जिला परिषद सीट के लिए चुनाव लड़ने के लिए भाजपा से समर्थन मांगा था, लेकिन तब उन्हें टिकट नहीं दी गई वह बताैर आजाद उम्मीदवार जीते थे। विनोद ने कहा कि पंजाब से आने वाला एक परिवार हमीरपुर को अपना बंधुआ बनवाना चाहता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *