सुहास भगत अचानक इन्दौर आए,सांवेर उपचुनाव से जुडे नेताओं से की वन टू वन चर्चा

 

 

 

 

 

 

 

  • अधिकांश चुनावी तैयारियों से संतुष्ट, कुछ मामलों में दी नसीहतें

शैलेन्द्र सिंह पंवार, इन्दौर। सांवेर विधानसभा उपचुनाव को लेकर अब प्रदेश भाजपा के संगठन महामंत्री सुहास भगत भी एक्टिव हो गए है। हालांकि उनकी चुनाव के संदर्भ में भाजपा नेताओं से आनलाईन व मोबाईल चर्चाएं पुर्व में भी हो चुकी है। लेकिन सोमवार को वे भोपाल से अचानक इन्दौर आए और पार्टी कार्यालय पर चुनाव अभियान से जुडे सभी नेताओं से वन टू वन चर्चा की। कई मामलों में उन्होने पीठ थपथपाई तो कुछ मामलों में नसीहत देने से भी नहीं चूके।

सांवेर विधानसभा उपचुनाव में भाजपा फिलहाल सभी मोर्चों पर कांग्रेस से आगे है, लेकिन फिर भी जीत को लेकर पुरी तरह से संतुष्ट नहीं है, क्योंकि बदली हुई परिस्थिति में निचले स्तर पर अभी भी कई कार्यकर्ताओं में नाराजगी है, उपचुनाव की स्थिति क्यों बनी, इसको लेकर भी मतदाताओं के तरह-तरह के सवालों का सामना करना पड़ रहा है, फिर भी मजबूत संगठन, विकास कार्यों व मंत्री तुलसी सिलावट की साधारण छवि से भाजपा की बढ़त है। वैसे तो सांवेर सहित सभी 27 विधानसभा उपचुनाव पर सुहास भगत की नजर है, इस संदर्भ में वे संभागीय संगठन मंत्रियों सहित चुनाव अभियान से जुडे नेताओं से फिडबैक भी लेते है, लेकिन सोमवार को वे अचानक इन्दौर आए और सीधे दीनदयाल भवन पहुंचकर उन्होने सभी प्रमुख नेताओं से वन टू वन चर्चा की। सूत्रों की माने तो भगत तक जो जानकारी पहुंची है उसमे अभी भी कई नेता पुरे मनोयोग से अपनी भूमिका नहीं निभा रहे है, इनकी या तो रस्मी या फिर कागजों पर ही अधिक सक्रियता है। ऐसी स्थिति सांवेर सहित अन्य उपचुनाव वाले विधानसभा क्षेत्रों से भी उन्हे मिली है, इसलिए वे पहले से और अधिक एक्टिव होकर चुनाव वाले क्षेत्रों में पहुंच रहे है। संगठन में इस बार उन्होने कई जिलों में अपने पसंदीदा लोगों की नियुक्ति करवाई है, इस कारण भी वे पहले से अधिक एक्टिव है। भगत पिछले दिनों कोरोना पाजिटिव भी हो गए थे।

■ इनसे हुई वन टू वन
सांवेर उपचुनाव के संदर्भ में भगत, संभागीय संगठन मंत्री जयपाल सिंह चावड़ा से पल पल की जानकारी लेते है, नगर अध्यक्ष गौरव रणदिवे व जिला अध्यक्ष राजेश सोनकर को भी वे तलब करते है। चुनाव प्रभारी रमेश मेन्दोला व सह प्रभारी मधु वर्मा से भी चुनावी विषयों पर उनकी चर्चाएं होती रहती है। सोमवार को उन्होने उक्त नेताओं सहित मंत्री तुलसी सिलावट, उषा ठाकुर, सावन सोनकर, सुदर्शन गुप्ता सहित अन्य प्रमुख नेताओं से वन टू वन चर्चा की। चुनाव अभियान से जुड़े अधिकांश मामलों में वे संतुष्ट थे, लेकिन कुछ मामलों में उन्होने कमजोर कडिय़ों को मजबूत करने की हिदायत देते हुए नसीहतें भी दी है।

■ संगठन महामंत्री के चुनावी टिप्स
बूथ स्तर के कार्यकर्ताओं को सक्रिय रखें, केन्द्र व राज्य सरकार के कामकाज से ग्रामीणों को अवगत कराएं, कांग्रेस के नकारात्मक प्रचार पर नजर रखें, प्राकृतिक आपदाओं से लोगों को राहत दिलाने में सहयोग करें, कमलनाथ सरकार व शिवराज सरकार का अंतर बताएं, भाजपा प्रत्याशी व संभावित कांग्रेस प्रत्याशी की कार्यशैली से अवगत कराएं, असंतुष्ट कार्यकर्ताओं पर नजर रख उन्हे चुनाव में भागीदार बनाएं, अधिकांश जिम्मेदारियों में स्थानिय कार्यकर्ताओं को ही आगे रखें, शहर के कार्यकर्ताओं का दखल कम से कम ही रहें।

■ जिला अध्यक्षों से हुए रूबरू
संभाग के अंतर्गत आने वाले सभी 9 संगठनात्मक जिलों के अध्यक्ष के साथ भी उनकी चर्चा हुई, जिसमे संपन्न कार्यक्रमों की समीक्षा की गई, वहीं आगामी कार्यक्रमों की तैयारियों से भी रूबरू हुए। सांवेर सहित बदनावर, मांधाता विधानसभा उपचुनाव व नगरीय निकाय चुनावों को लेकर भी उन्होने पार्टी अध्यक्षों से चर्चा की। जिला ईकाईयों सहित मोर्चा प्रकोष्ठों के गठन को लेकर भी भगत ने दिशा निर्देश दिए। संगठन की गतिविधियों के संदर्भ में उन्होने संभागीय संगठन मंत्री जयपाल सिंह चावड़ा की प्रशंसा भी की।।